स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शादी के लिए रखे जेवर और पैसों पर गड़ गई भतीजों की नजर , मौका देखकर बड़े ताऊ के घर से ले उड़े लाखों रुपए

Dakshi Sahu

Publish: Sep 14, 2019 14:35 PM | Updated: Sep 14, 2019 14:35 PM

Bemetara

नवागढ़ पुलिस ने अपने बड़े पिता के घर ताला तोड़कर चोरी करने वाले युवक और उसके नाबालिग साथी को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपियों ने घर में घुस कर जेवर एवं एक लाख 62 हजार रुपए चुरा लिए थे।

बेमेतरा. नवागढ़ पुलिस (Bemetara police) ने अपने बड़े पिता के घर ताला तोड़कर चोरी करने वाले युवक और उसके नाबालिग (Minor child) साथी को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपियों ने घर में घुस कर जेवर एवं एक लाख 62 हजार रुपए चुरा लिए थे। यह रकम घर में शादी के लिए रखी गई थी। पुलिस के अनुसार नवागढ़ के सुकुल पारा में 30 अगस्त को चंद्रकान्त सोनकर के घर जेवर और नगदी की चोरी हो गई थी। इस मामले में आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है।

चुरा लिया जीवन बीमा का बांड
अरोपी चंद्रेश सोनकर और उसके साथी ने प्रार्थी चंद्रकान्त सोनकर के घर के दरवाजे का ताला तोड़ कर अंदर घुसे। दीवान में रखी एक टीना की पेटी ले गए। इसमें एक लाख 62 हजार रुपए नगद रखा था। सोने की पत्ती 12 नग, सोने का झुमका 1 जोड़ी, चांदी का लच्छा एवं चांदी की पैरपट्टी समेत कुल करीब 2 लाख रुपए, पैन कार्ड, एटीएम कार्ड, मोटर साइकिल की आरसी बुक, जीवन बीमा का बांड आदि चुरा लिया।

संदेह के आधार पर पकड़ा
जांच के दौरान पुलिस ने पहले अपचारी बालक को संदेह के आधार पर पकड़ा। उसकी निशानदेही पर मंगलसूत्र का लॉकेट, लॉकेट की पत्ती 14 नगद, सोने के लॉकेट की पत्ती 7 नग, चांदी की जोड़ी ऐठी, एक चूड़ा, करधन, पैरपट्टी दो जोड़ी, एक जोड़ी बिछिया व एक कंप्यूटर सीपीयू बरामद किया। अपचारी बालक के बयान के आधार पर उसके चचेरे भाई चंद्रेश सोनकर के बारे में जानकारी मिली।

चंद्रेश पूर्व से उपजेल में नाबालिग से छेड़छाड़ एवं पॉक्सो एक्ट के तहत दर्ज मामले में 31 अगस्त से निरुद्ध था। उसे प्रोडक्शन लेकर उसकी निशानदेही पर नवागढ़ मुक्तिधाम के पास रेत के ढेर में छिपाई गई एक लाख 62 हजार रकम और एक जोड़ी झुमका बरामद किया गया।

शादी के लिए रखी गई थी रकम
बताया गया कि प्रार्थी चंद्रकान्त सोनकर के यहां चोरी उसके दोनों भातीजे ने ही की थी। चंद्रकान्त के यहां विवाह को लेकर तैयारी की जा रही थी। जिसकी जानकारी आरोपियों को थी। वारदात के समय चंद्रकान्त की पत्नी तीजा मनाने मायके गई हुई थी। प्रार्थी और उसका पुत्र सब्जी बेचने गए थे।