स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अब सच होगा शहर में खुद के घर का सपना, आवासहीन गरीबों को मिलेगा पट्टा

Laxmi Narayan Dewangan

Publish: Oct 23, 2019 07:10 AM | Updated: Oct 22, 2019 21:39 PM

Bemetara

राजीव गांधी आश्रय योजना के अंतर्गत नगरीय क्षेत्रों में भूमिहीन व्यक्ति, जिनके पास स्थायी पट्टी नहीं है, को स्थायी पट्टा दिया जाएगा।

बेमेतरा. राजीव गांधी आश्रय योजना के अंतर्गत नगरीय क्षेत्रों में भूमिहीन व्यक्ति, जिनके पास स्थायी पट्टी नहीं है, को स्थायी पट्टा दिया जाएगा। कलेक्टर शिखा राजपूत तिवारी ने जिले के सभी चार अनुविभागीय अधिकारी राजस्व को अपने प्रभार क्षेत्रों के लिए प्रभारी अधिकारी नियुक्त किया है।

कलेक्टर ने 30 अक्टूबर तक सर्वे के दिए निर्देश
योजना का लाभ देने सर्वेक्षण दल गठित किया गया है। इसके अंतर्गत सभी तहसीलदार, मुख्य नगर पालिका अधिकारी बेमेतरा, जिले के सभी नगर पंचायत साजा, बेरला, नवागढ़, मारो, परपोड़ी, देवकर, थानखम्हरिया के सीएमओ जिला शहरी विकास अभिकरण अधिकारी, राजस्व निरीक्षण एवं हल्का पटवारी इस दल के सदस्य होंगे। कलेक्टर ने समय सीमा की बैठक के दौरान 30 अक्टूबर तक सर्वेक्षण की कार्यवाही अनिवार्य रूप से पूर्ण करने कहा।

दस्तावेजों के सत्यापन के बाद दिया जाएगा पट्टा
राज्य शासन के नगरीय प्रशासन विकास विभाग ने कलेक्टरों को जारी परिपत्र के मुताबिक शहरी क्षेत्रों में शासकीय नजूल/स्थानीय निकाय/विकास प्राधिकरण की भूमि में निवास करने वाले आवासहीनों को ऐसी अधिभोग की भूमि के पट्टे की पात्रता होगी, जिनका इस पते का राशन कार्ड बना हो। यदि राशन कार्ड न हो तो नियम में उल्लेखित अन्य प्रमाणित अन्य दस्तावेजों के आधार पर सत्यापन के बाद उसे पट्टा दिया जाएगा।

450 वर्गफुट तक की जमीन का मिलेगा पट्टा
सामान्यतया ऐसे व्यक्ति को 450 वर्गफुट तक की भूमि का पट्टा प्राप्त करने की पात्रता होगी। यदि झुग्गीवासी व्यक्ति के अधिभोग में 450 वर्गफुट से अधिक भूमि होने पर निर्धारित क्षेत्रफल तक उसे पट्टा दिया जाएगा। नगर पंचायत क्षेत्रों में 1000 वर्गफुट, नगरपालिका क्षेत्र में 800 वर्गफुट, इस सीमा से अधिक भूमि के अधिभाग पाए जाने पर संबंधित व्यक्ति को उसे रिक्त कराया जाएगा।

भू-भाटक नहीं किया जाएगा
झुग्गीवासी भूमिहीन व्यक्ति से पट्टे के लिए कोई प्रब्याजी या भू-भाटक नहीं लिया जाएगा। विकास शुल्क के रूप में 10 वर्षों तक प्रतिवर्ष निम्न दरों पर विकास शुल्क लिया जाएगा। नगर पंचायत क्षेत्रों में 5 रुपए प्रति वर्गफुट एवं नगर पालिका क्षेत्र में 10 रुपए प्रतिवर्ग फुट शामिल है। यदि कोई झुग्गीवासी किराया दार के रूप में निवास कर रहा है, तब भी पट्टे की पात्रता उसे ही होगी। किसी भी परिस्थिति में झुग्गी के मालिक (जिसने किराए पर झुग्गी दे रखी है) को पट्टा नहीं दिया जाएगा। पात्र झुग्गीवासियों को स्थायी एवं अस्थायी पट्टा 25 नवम्बर तक अनिवार्यत: वितरण करने के निर्देश दिए हैं।