स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

डॉक्टर ने की ऐसी हरकत कि जनता ने सीधे मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव से की शिकायत

Laxmi Narayan Dewangan

Publish: Sep 20, 2019 07:10 AM | Updated: Sep 19, 2019 23:08 PM

Bemetara

नवागढ़ बीएमओ डॉ. एलडी ठाकुर ने युवक गागल यादव के खिलाफ मारपीट की रिपोर्ट नवागढ़ थाने में दर्ज कराकर गुरुवार को गिरफ्तारी की मांग को लेकर ओपीडी बंद करने की चेतावनी देकर हड़कंप मचाने का प्रयास किया

नवागढ़ . नवागढ़ दर्री पारा निवासी 15 वर्षीय युवक की तालाब में डूबने से और ग्राम बाघुल में 19 वर्षीय युवक की फांसी लगाने से मौत हो गई। इसके बाद दोनों के परिजन बुधवार को शव का पोस्टमार्टम कराने के लिए नवागढ़ अस्पताल आए थे। जहां पर नवागढ़ सरकारी अस्पताल के प्रभारी बीएमओ डॉ. एलडी ठाकुर ने समय पर पोस्टमार्टम नहीं किया और उल्टे नवागढ़ के युवक गागल यादव के खिलाफ मारपीट की रिपोर्ट नवागढ़ थाने में दर्ज कराकर गुरुवार को गिरफ्तारी की मांग को लेकर ओपीडी बंद करने की चेतावनी देकर हड़कंप मचाने का प्रयास किया।

नवागढ़ की जनता ने दी नगर बंद की चेतावनी
अधिकारियों के पांच घंटे के प्रयास के बाद डॉक्टर ने ओपीडी तो शुरू की लेकिन जनता अब डॉक्टर के खिलाफ खुलकर आगे आ गई है और डॉक्टर के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर एसडीएम को ज्ञापन सौंपा। साथ ही घटना की जानकारी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव, विधायक गुरुदयाल बंजारे सहित जिम्मेदार अधिकारियों को देकर समुचित कार्रवाई नहीं होने पर नगर बंद की चेतावनी दी है।

डॉक्टर ने कहा - नेतागिरी नहीं, मेरी मर्जी चलेगी
ओपीडी छोड़कर पोस्टमार्टम नहीं करने की बात करने वाले डॉ. एलडी ठाकुर पोस्टमार्टम छोड़कर बेमेतरा चले गए। मौके पर गए राजू जायसवाल ने कहा कि पोस्टमार्टम में विलंब की सूचना पर अस्पताल जाकर डाक्टर से आग्रह किया। वहीं से विधायक व गृह मंत्री को सूचना दी। डॉक्टर ने कहा कि नेतागिरी नहीं, मेरी मर्जी चलेगी और बेमेतरा चले गए। देर शाम नवागढ़ थाना जाकर युवक के खिलाफ रिपोर्ट लिखवाकर अनैतिक दबाव बनाने का प्रयास कर रहे हैं, जो पूर्णत: गलत है। हर स्तर पर विरोध किया जाएगा।

ग्रामीणों ने की डॉक्टर को निलंबित करने की मांग
रामाधार, किशुन, महेश, अमित जैन, राकेश जायसवाल, रूपेश यादव, कलीराम यादव, दौलतराम, मनोज यादव, संतोष साहू, प्रकाश निषाद, इलियास खान सहित सैकड़ों लोगों ने नवागढ़ एसडीएम को ज्ञापन देकर पूरे मामले की जांच की मांग की तथा डॉक्टर को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर नवागढ़ से हटाने की मांग की। बाद में इन्हीं लोगों ने थाना पहुंचकर युवक के खिलाफ दर्ज मामले को रद्द करने, डॉक्टर के खिलाफ जांच करने की मांग करते हुए एफ आईआर रद्द नहीं होने पर नगर बंद कर आंदोलन करने की चेतावनी दी।

डॉक्टर ने युवक पर लगाया थप्पड़ मारने का आरोप
शासकीय अस्पताल नवागढ़ में पदस्थ बीएमओ डॉ. लीलाधर ठाकुर ने थाने में रिपोर्ट दर्ज कराया है कि बुधवार को ड्युटी के दौरान दो शव का पोस्टमार्टम करने के बाद शाम 4 बजे बाहर आने पर दर्रीपारा के गगल यादव ने शासकीय कर्तव्य में बाधा डालकर गाली-गलौच करते हुए जान से मारने की धमकी दी और थप्पड से मार दिया। जिसके बाद लोगों से उस व्यक्ति के बारे में पता करने पर आरोपी का नाम गगल यादव होना बताया गया। डॉ. लीलाधर ठाकुर की रिपोर्ट पर दर्रीपारा नवागढ़ निवासी गगल यादव के खिलाफ धारा 186, 353, 294, 506, 323 भादवि के तहत अपराध दर्ज कर विवेचना में लिया गया है।

डॉक्टर की धमकी से डरा प्रशासन
डॉक्टर द्वारा रात में एफ आईआर कराने के बाद सुबह यह खबर दे दी गई कि उनसे मारपीट करने वाले युवक को गिरफ्तार नहीं किया गया तो ओपीडी बंद कर आंदोलन किया जाएगा। इसके बाद सीएमएचओ डॉ सतीश शर्मा, एसडीएम डीआर डहरिया, एसडीओपी राजीव शर्मा व थाना प्रभारी नासीर खान ने अस्पताल में डेरा डालकर डॉ. ठाकुर को समझाइश दिए, तब ओपीडी शुरू हुआ।

मेडिकल रिपोर्ट के अनुसार कान सूज गया है
इस मामले में नवागढ़ थाना प्रभारी नासीर खान ने बताया कि डॉक्टर की रिपोर्ट पर गागल यादव (20) के खिलाफ धारा 294, 506, 323, 186, 353, 332, छग मेडिकल प्रोडक्शन एक्ट की धारा तीन चार के तहत अपराध दर्ज किया गया है। गागल के पक्ष में स्थानीय लोगों ने एफ आईआर रद्द करने का ज्ञापन दिया है। डॉक्टर ने अपना मेडिकल रिपोर्ट प्रस्तुत किया है, जिसमें कान में सूजन बताया गया है।

डॉक्टर को समझाइश देकर शुरू कराया ओपीडी
इस संबंध में नवागढ़ एसडीएम डीआर डहरिया ने कहा कि अस्पताल में ओपीडी बंद की सूचना पर गया था। समझाइश के बाद डॉक्टर ने ओपीडी शुरू की। अस्पताल के अन्य कार्य भी जांच योग्य हैं। कल पोस्टमार्टम समय पर हो जाना था। दोनों पक्ष को जिम्मेदारी समझना था। नगर के लोगों ने ज्ञापन दिया है। जांच रिपोर्ट कलक्टर को भेजी जाएगी।