स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बेमेतरा ATM कैश वैन लूट में आया नया मोड़, लोकेशन इंचार्ज और सहयोगी ने लूट से पहले ही निकाल लिए थे 16 लाख, ऐसे हुआ खुलासा

Dakshi Sahu

Publish: Oct 12, 2019 17:18 PM | Updated: Oct 12, 2019 17:18 PM

Bemetara

एटीएम कैश वैन (Bemetara ATM Cash van robbery) लूट के मामले में पुलिस ने दो और आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। उनकी निशानदेही पर 16 लाख रुपए बरामद कर लिया है।

बेमेतरा. एटीएम कैश वैन (ATM Cash van robbery)लूट के मामले में पुलिस ने दो और आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। उनकी निशानदेही पर 16 लाख रुपए बरामद कर लिया है। ये आरोपी कैश वैन संचालनकर्ता कंपनी सीएमएस के लोकेशन इंचार्ज संकल्प शर्मा एवं उसका सहायक पुनाराम लहरे है। इन दोनों ने लूट के पहले ही कुल रकम में से 16 लाख रुपए निकाल कर अपने पास रख लिया था। जिसे बाद में मौका मिलने पर आपस में 8-8 लाख रुपए बांट लिया था। इस तरह पुलिस (Bemetara police) ने अब तक एक करोड़ 24 लाख रुपए बरामद कर लिया है। अब 40 लाख रुपए की तलाश है। घटना 5 अक्टूबर को अतरिया के पास हुई थी। आरोपियों ने कट्टे की नोक पर एक करोड़ 64 लाख रुपए लूट लिया था। सूचना मिलने पर पुलिस ने कुछ घंटों के अंदर ग्रामीणों की मदद से लुटेरों को पकड़ लिया था। उनसे 80 लाख रुपए बरामद किया था। बाद में 28 लाख रुपए और बरामद किया था। अब 16 लाख रुपए जब्त किए गए हैं।

थाने से काले बैग में 16 लाख लेकर चले गए कर्मचारी
लूट के बाद पुलिस कैश वैन को थाने ले आई। इस दौरान काले बैग में पहले से निकालकर रखे गए 16 लाख रुपए भी वैन में ही थे। पुलिस पूछताछ में कर्मचारियों ने इस बैग के बारे में कुछ नहीं बताया। पुलिस ने वैन को जब्ती करते समय कर्मचारियों से अपना सामान ले जाने कहा, तभी लोकेशन इंचार्ज संकल्प शर्मा ने इस बैग को भी पार कर दिया। इसके बाद पुलिस ने वैन को लॉक कर दिया। यहां से बैग ले जाकर एसडीओपी कार्यालय के सामने स्थित स्टेट बैंक के एटीएम में एक कार्टून में भरकर पीछे बने कमरे में छिपा दिया और बाहर से ताला लगा दिया।

मौका देखकर दोनों ने 8-8 लाख रुपए आपस में बांट लिए
एटीएम में रखे 16 लाख रुपए को लोकेशन इंचार्ज संकल्प शर्मा और उसके सहयोगी पुनाराम लहरे आपस में 8-8 लाख रुपए बांट लिया। रुपए अपने साथ ले गए। पुलिस ने बैग भी बरामद कर लिया है। साथ ही यह रकम भी बरामद कर ली।

एटीएम का फुटेज देखने के बाद खुला राज
पुलिस लूट की बाकी रकम की तलाश कर रही थी, इस दौरान उसने एसडीओपी कार्यालय के सामने का फुटेज खंगाला। इसके बाद संकल्प शर्मा से काले रंग के बैग के बारे में पूछताछ की। वह टालमटोल करने लगा। सख्ती से पूछताछ करने पर वह टूट गया। उसने पूरी बात कबूल कर ली।

अब तक 6 आरोपी पकड़े गए
एसपी प्रशांत ठाकुर ने बताया कि प्रकरण में पुलिस को अैार सफलता मिली है। आज दो लोगों से 16 लाख रुपए बरामद किया गया है। पुलिस ने अब तक 1.24 करोड़ रुपए बरामद किया है। प्रकरण में अब तक 6 आरोपी पकड़े गए हैं। अन्य बिन्दुओ पर जंाच जारी रहेगी।

सीसीटीवी का फुटेज खंगाला
लूट के बाद रविवार को छुट्टी थी, फिर दशहरा की छुट्टी थी। इसलिए पुलिस सीसीटीवी का फुटेज नहीं देख पाई थी। छुट्टी समाप्त होने के बाद स्टेट बैंक के एटीएम में लगे सीसीटीवी कैमरे का फुटेज खंगाला गया, तब पुलिस ने पाया कि संकल्प शर्मा और पुनाराम लहरे काले रंग के बैग से दो पेटियों में रकम डाल रहे हैं और बाद में रकम को निकालकर बैग भी अपने साथ ले जा रहे हैं। पुलिस ने कैश वैन, प्राप्त रकम, सुरक्षा गार्ड के गन, दो खाली पेटियां, आरोपियों के उपयोग में लाई गई कार और कट्टा भी जब्त किया था। लेकिन काले रंग के बैग का कोई उल्लेख नहीं था। यहीं से उन पर संदेह गहराया और आरोपियों को पकड़ लिया।

भेज दिया आरोपियों को जेल
पुलिस ने सीएमएस कंपनी के लोकेशन इंचार्ज संकल्प शर्मा निवासी वार्ड 11 रामदेव वार्ड बेमेतरा व उसके सहयोगी पुनाराम लहरे निवासी ग्राम करचुवा चौकी खंडसरा को गबन एवं आपराधिक साजिश रचने की धारा 409, 120बी के तहत प्रकरण दर्ज कर शुक्रवा को न्यायालय में पेश किया। जहां से दोनों आरोपियों को न्यायायिक रिमांड में जेल भेज दिया गया है।

ग्रामीणों से बचने आरोपियों ने फेंके थे रुपए
पुलिस के अनुसार पूर्व में पकड़े गए चार लुटेरों ने बताया कि मुख्य आरोपी सोनू हुड्डा ने लूट की रकम चारों में बांटने के बाद गमछे में पोटली बना कर रख लिया। अन्य आरोपी पि_ू बैग में रकम लेकर अलग-अलग दिशा में भागने लगे। पुलिस की सक्रियता और ग्रामीणों के उनके पीछे दौड़ लगाने पर उन्होंने पोटली में बंधे रुपए रास्ते में गिरा दिया, जिससे ग्रामीण रुपए उठाने लगे और वे मौके से फरार हो जाएं। लेकिन ऐसा नहीं हो सका और वे सभी पकड़े गए। प्रदेश के डीजीपी डीएम अवस्थी के आदेश एवं अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक हिमांशु गुप्ता के निदेश पर पुलिस अधीक्षक प्रशांत सिंह ठाकुर के नेतृत्व में एक टीम बनाई गई है, जो पूरे मामले की पड़ताल में लगी हुई है।