स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शराब माफियाओं को मिल रहा प्रशासनिक संरक्षण, महिला कमांडो ने खड़े कर दिए हाथ

Laxmi Narayan Dewangan

Publish: Nov 03, 2019 07:10 AM | Updated: Nov 02, 2019 23:33 PM

Bemetara

पुलिस व आबकारी विभाग की निष्क्रियता का आलम यह है कि त्योहारी सीजन के एक माह में शहर में शराब की अवैध बिक्री का एक भी प्रकरण दर्ज नहीं हुआ है।

बेमेतरा . शहर सहित जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर शराब की अवैध बिक्री जारी है। संबंधित पुलिस व आबकारी विभाग की निष्क्रियता का आलम यह है कि त्योहारी सीजन के एक माह में शहर में शराब की अवैध बिक्री का एक भी प्रकरण दर्ज नहीं हुआ है। जबकि शहर में दर्जनभर स्थानों में खुलेआम अवैध बिक्री हो रही है। शिकायतों के बावजूद संबंधित विभाग इस पर अंकुश लगाने में नाकाम रहे हैं।

यहां खुलेआम बिक रही शराब
शहर में नया बस स्टैंड में खाद्य विभाग की पुरानी बिल्डिंग के पास, पुराना बस स्टैंड में हनुमान मंदिर के पास, बाजारपारा में मंदिर व मस्जिद के पास, मोहभ_ा वार्ड में इंदिरा आवास कॉलोनी, रायपुर व कवर्धा मार्ग स्थित ढाबा, सिंघौरी में देवार डेरा के पास समेत दर्जनभर स्थानो पर शराब की अवैध बिक्री हो रही है। इसी प्रकार ग्राम पिपरभ_ा, कुसमी, जोगीपुर, राउरपुर, खैरी, पौसरी, बीजाभाठ, सरदा, सिरसा, सिंघौरी, देवरबीजा, चंदनू, लालपुर, बंधी, चारभाठा, ढोलिया, केशतरा, मउ, मुटपुरी, सरदा, जमघट, बारगांव, बोंरसी, बुधेली, घटियाखुर्द, मोहरेंगा, सोरला, सिंगदेही, बुचीडीह, घिवरी में कोचिए खुलेआम शराब बेच रहे हैं।

एक माह में आबकारी एक्ट में एक भी प्रकरण नहीं
आबकारी उपनिरीक्षक जैलेष सिंह के अनुसार बेमेतरा शहर में एक माह के भीतर आबकारी एक्ट के तहत एक भी प्रकरण दर्ज नहीं किया गया है। उन्होंने बताया कि जिले में माहभर में आबकारी एक्ट के 21 प्रकरण दर्ज हुए, जिसमें अवैध शराब बिक्री के मात्र 5 प्रकरण हैं। सिटी कोतवाली के अनुसार सितम्बर में शराब की अवैध बिक्री के सिर्फ 2 व अक्टूबर में 3 प्रकरण दर्ज हुए। इन दर्ज प्रकरणों में शहर के भीतर एक भी कार्रवाई नहीं की गई है। शहर में दर्जनभर स्थानों पर खुलेआम शराब की अवैध बिक्री हो रही है।

सहयोग नहीं मिलने से महिला कमांडो के प्रयासों को लगा झटका
शहर के गली-मोहल्लों में शराब पीकर माहौल खराब कर रहे लोगों पर अंकुश लगाने महिला कमांडो रात में गश्त करती थीं। लेकिन वर्तमान में पुलिस व आबकारी विभाग से अपेक्षित सहयोग नहीं मिलने के कारण महिला कमांडो ने रात में गश्त बंद कर दी है। महिला कमांडो मुनिया बाई, कमला बाई, दुखिया ने बताया कि शहर में आधा दर्जन से अधिक महिला कमांडो दल सक्रिय थे। लेकिन अब महिला कमांडो की सीटी की आवाज व लाठी की ठकठक बंद हो गई है। पीडि़त परिवार की महिलाओं को महिला कमांडो के प्रयासों से उम्मीद जगी थी, कि उनके परिवार में खुशहाली आएगी। लेकिन प्रशासनिक निष्क्रियता से महिला कमांडो के प्रयासों को झटका लगा है।

नशेड़ी बन रहे बच्चे
सप्ताहभर पहले दर्जनभर गांव की मितानिन शराब की अवैध बिक्री पर रोक लगाने की मांग पर बेमेतरा विधायक आशीष छाबड़ा को ज्ञापन सौंपकर गुहार लगाई। मितानिन चमेली बाई, कमला वर्मा ने बताया कि गांव-गांव में अमरबेल की तरह शराब कोचिए सक्रिय हो गए हैं। आसानी से उपलब्धता के कारण गांव के बच्चे किताब पकडऩे की उम्र में नशे के आदी हो रहे हैं। युवाओं का भविष्य बर्बाद हो रहा है। विधायक ने महिलाओं को कड़ी कार्रवाई का आश्वासन दिया।

शहर का माहौल बिगाडऩे वालों को बख्शा नहीं जाएगा
इस संबंध में बेमेतरा विधायक आशीष छाबड़ा ने कहा कि पुलिस अधीक्षक से अनैतिक कार्यों में लिप्त लोगों पर कड़ी कार्रवाई के संबंध में चर्चा की जाएगी। शहर का माहौल भयमुक्त व शांतिपूर्ण हो, जनप्रतिनिधि के साथ प्रत्येक नागरिक का भी यह दायित्व है। शहर का माहौल बिगाडऩे वालों को बख्शा नहीं जाएगा। एसपी प्रशांत ठाकुर ने कहा कि शिकायत पर तुरंत कार्रवाई की जा रही है। फिर भी इस संबंध में थाना प्रभारी से जानकारी लूंगा। स्थिति नियंत्रण में है, पुलिस विभाग पूरी मुस्तैदी से कार्रवाई कर रहा है।

[MORE_ADVERTISE1]