स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

एसडीएम के आदेश पर घर-घर में नंबर प्लेट लगाने के नाम पर वसूल रहे 30-30 रुपए

Laxmi Narayan Dewangan

Publish: Sep 16, 2019 07:10 AM | Updated: Sep 16, 2019 00:00 AM

Bemetara

ब्लॉक के सभी ग्राम पंचायतों में राशन कार्ड में नाम नहीं जुडऩे का झांसा देकर घर-घर में नंबर प्लेट लगा रहे हैं और इसके एवज में 30-30 रुपए की अवैध वसूली की जा रही है।

बेमेतरा . बेरला एसडीएम दुर्गेश वर्मा के लिखित आदेश पर ब्लॉक के सभी ग्राम पंचायतों में राशन कार्ड में नाम नहीं जुडऩे का झांसा देकर घर-घर में नंबर प्लेट लगा रहे हैं और इसके एवज में 30-30 रुपए की अवैध वसूली की जा रही है। यह जिम्मा अंबिकापुर की प्राइवेट संस्था मानव सेवा समिति को सौंपा गया है। घर में नंबर प्लेट लगाने के नाम पर यह वसूली की जा रही है। एसडीएम के हस्ताक्षर से जारी आदेश की प्रति पत्रिका संवाददाता के पास उपलब्ध है। बताया जा रहा है कि छग शासन का इस तरह का कोई आदेश नहीं है।

राशन कार्ड से नाम कट जाने का भय दिखा रहे
प्राइवेट संस्था के कर्मचारी एसडीएम का आदेश लेकर गांवों में पहुंच रहे हैं। इस संबंध में बाकायदा ग्राम पंचायतों में मुनादी भी कराई जा रही है और इसके बाद वसूली की जा रही है। ग्रामीणों को समझ में ही नहीं आ रहा। उन्हें लग रहा है कि यह सरकार की योजना नहीं बल्कि प्राइवेट संस्था की मिलीभगत कर ग्रामीणों को लूटने का मामला है।

ब्लॉक में हैं 50 हजार राशन कार्ड
बेरला ब्लॉक में लगभग 50 हजार राशन कार्ड है। प्रत्येक राशन कार्ड के नाम पर 30-30 रुपए वसूल करने पर 15 लाख रुपए होते हैं। बिना निविदा और शासन के आदेश के बावजूद भ्रष्टाचार किया जा रहा है। ग्राम पंचायत सुरहोली निवासी चित्ररेखा पाटिल ने बताया कि हमें राशन कार्ड कटने का भय दिखा कर राशि वसूली जा रही है। तिलक साहू ने बताया कि राशन कार्ड न कट जाए, इसलिए 30 रुपए दिए हैं।

फर्जी रसीद भी दी जा रही
राशन कार्ड के नाम पर वसूली कर 30 रुपए की रसीद भी दी जा रही है। जिसमें हाउस नंबर लिखा हुआ है न कि किसी संस्था का नाम। इसमें मतदाता सूची, राशन कार्ड, प्रशासनिक कार्यों में इस रसीद का सहायक बताया जा रहा है।

कलक्टर व मुख्यमंत्री से की जाएगी शिकायत
अंकुर समाजसेवी संस्था मामले की सोमवार को जिला कलक्टर और मुख्यमंत्री के मामले की शिकायत करेगी। उन्हें पूरे फर्जीवाड़े की जानकारी दी जाएगी। संस्था प्रमुख राहुल टिकरिहा का कहना है कि बेरला एसडीएम ने अपने पद का दुरुपोयग किया है। यह जनता से लूट है।

मामले का परीक्षण कराया जाएगा
इस संबंध में कलक्टर शिखा राजपूत तिवारी ने कहा कि एनजीओ को दिए गए आदेश को लेकर सोशल मीडिया से जानकारी मिली है। मामले का परीक्षण कराया जाएगा। इसके बाद ही कुछ कह पाउंगी। वहीं बेरला एसडीएम दुर्गेश वर्मा ने कहा कि मैं अभी छुट्टी में हूं। आने के बाद के ही कुछ बता पाऊंगा।