स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

EXCLUSIVE INTERVIEW: महागठबंधन नहीं, यह महाठगबंधन है, पूरे महागठबंधन में ही महामिलावट:गिरिराज सिंह

Prateek Saini

Publish: Apr 24, 2019 16:15 PM | Updated: Apr 24, 2019 16:15 PM

Begusarai

केंद्रीय राज्य मंत्री गिरिराज सिंह बोले,मेरा मुकाबला केवल और केवल गिरिराज से और किसी से नहीं...

 

(बेगूसराय,शिशिर शरण राही): केंद्रीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), सूक्ष्म, लघु-मध्यम उद्यम मंत्रालय और भाजपा के फायर ब्रांड नेता गिरिराज सिंह का कहना है कि महागठबंधन नहीं, बल्कि यह महाठगबंधन है। पूरे महागठबंधन में ही महामिलावट है। उनका कहना है कि आज देश को नरेंद्र मोदी जैसे जनप्रिय राजनेता को फिर से प्रधानमंत्री बनाने की सख्त आवश्यकता है। तमाम चुनावी व्यस्तताओं के बावजूद राजस्थान पत्रिका के साथ खास भेंट में वामपंथी दलों के गढ़ रह चुके और कभी बिहार के लेनिनग्राद-सह-मॉस्को के नाम से मशहूर बेगूसराय संसदीय निर्वाचन क्षेत्र से भाजपा के उम्मीदवार गिरिराज ने स्थानीय, राष्ट्रीय सहित अनेक मसलों पर खुलकर बातचीत की। उन्होंने कहा कि राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की धरती बेगूसराय देशविरोधी और विकास विरोधी ताकतों के साथ नहीं है। बेगूसराय राष्ट्रवाद के साथ मोदी के विकास की राह पर गतिशील है। इस क्रम में बेगूसराय को बिहार में सबसे ज्यादा विकास राशि प्रदान की गई और आधा दर्जन विकास योजनाओं पर काम जारी है। १७वीं लोकसभा के चौथे चरण के तहत बेगूसराय में 29 अप्रेल को मतदान होगा। गत लोकसभा चुनाव में नवादा के सांसद गिरिराज ने टिकट न मिलने पर बेगूसराय से चुनाव लडऩे से इंकार करने सहित खुद की जीत को लेकर पूछे गए हर सवाल के जवाब बेबाकी से दिए। पेश हैं शिशिर शरण राही से उनकी बातचीत के संपादित अंश-


सवाल:-क्या आप जीत के प्रति पूरी तरह आश्वस्त हैं?

गिरिराज:-बेगूसराय से मैं अपनी जीत के प्रति 1०० नहीं, बल्कि २०० फीसदी आश्वस्त हूं। मेरा मुकाबला किसी से नहीं, केवल और केवल गिरिराज से ही है।


सवाल:-देश में मोदी के खिलाफ गठबंधन पर क्या कहेंगे?

गिरिराज:-भाजपा की लड़ाई महागठबंधन से है, जो महागठबंधन नहीं महाठगबंधन है। महाठगबंधन महामिलावट है।

सवाल:-आपके ऊपर बाहरी उम्मीदवार होने का आरोप लगाया जा रहा?

गिरिराज:-बेगूसराय मेरी पहचान की जगह है। देश में अगर गिरिराज को लोग जानते हैं तो बेगूसराय से। गंगा के उस पार या इस पार, माता और पिता बेगूसराय ही है। वे यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और रामविलास पासवान के प्रत्याशी हैं और लोग उनका चेहरा नहीं बल्कि इन नेताओं का चेहरा देखकर वोट देंगे।

सवाल:-इस बार आपकी लड़ाई किससे है?

गिरिराज:-बेगूसराय की लड़ाई 2 धाराओं के बीच है। एक विकृत राष्ट्रवाद और दूसरा सांस्कृतिक राष्ट्रवाद। बेगूसराय में विकास के नाम पर चुनाव होगा। यहां की जनता किसी भी वैसे प्रत्याशी को समर्थन नहीं करेगी जो देशविरोधी, विकास विरोधी बात करता हो।

सवाल:-नवादा सीट से टिकट न मिलने पर बेगूसराय से चुनाव न लडऩे का ऐलान किया था, पर अचानक सुर क्यों बदल गए?

गिरिराज:-वो बात पुरानी हो गई। बात आई-गई हो गई, खत्म। आगे कुछ और पूछिए।

सवाल:-नई दिल्ली-गुवाहाटी रेललाइन से जुड़े बेगूसराय जिले में बंद बड़े खाद कारखाने और अन्य को खोलने सहित विकास की क्या योजना है?

गिरिराज:-इस संबंध में सरकार बनते ही ठोस योजनाओं की घोषणा की जाएगी।

सवाल:-दिनकर की धरती होने के बावजूद बेगूसराय में आज तक उनके नाम पर राष्ट्रीय स्तर का कोई संस्थान नहीं? मंत्री होने के बावजूद आपने कुछ नहीं किया?

गिरिराज:-दिनकर के नाम पर बहुत जल्द ही राष्ट्रीय स्तर का शैक्षिक, सांस्कृतिक संस्थान खोला जाएगा।