स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Election Exclusive...एक अजब पहेली सा नजर आ रहा बेगूसराय का मुकाबला,पूरी ख़बर पढ जाने यहां का सियासी गणित और जनता का मिजाज

Prateek Saini

Publish: Apr 26, 2019 08:00 AM | Updated: Apr 25, 2019 18:47 PM

Begusarai

बेगूसराय में वामपंथ के अतिवाद के परिचायक कन्हैयाकुमार हैं तो भगवा राष्टृवाद के झण्डाबरदार भाजपा के गिरिराजसिंह। इन दोनों के बीच खामोशी के साथ राजद के तनवीर हसन अपना प्रचार कर रहे हैं...

(राजेश शर्मा की ग्राउंड रिपोर्ट): पूरे बिहार में यदि कोई लोकसभा क्षेत्र सबसे ज्यादा चर्चा में है तो वो है बेगूसराय। बेगूसराय में वामपंथ के अतिवाद के परिचायक कन्हैयाकुमार हैं तो भगवा राष्टृवाद के झण्डाबरदार भाजपा के गिरिराजसिंह। इन दोनों के बीच खामोशी के साथ राजद के तनवीर हसन अपना प्रचार कर रहे हैं। बेगूसराय में सवा दो लाख वामपंथ का कैडर वोट माना जाता है और वामपंथी सितारे पाला कन्हैया के पक्ष में करने के लिए प्रचार कर रहे हैं वहीं गिरिराजसिंह इस क्षेत्र का जाना माना चेहरा है। राजद के तनवीर हसन की छवि सबके काम आने वाले की है। हसन को साफ्ट मुस्लिम चेहरा माना जाता है। तीनों की शख्सियत और प्रचार मुकाबले को त्रिकोणीय बना रहा है। हर दूसरे दिन कोई न कोई स्टार प्रचारक आ रहा है लेकिन लोग फसल की कटाई, शादी ब्याह और अपने कामों में व्यस्त हैं।

 

ये हाल है क्षेत्र का

मैं पटना से निकल कर हाजीपुर के रास्ते से बेगूसराय का रास्ता पकडता हूं तो चारों तरफ माहौल बदला बदला सा नजर आता है। अच्छी फोरलेन सडकें, ओवरब्रिजों की तो एक के बाद एक लम्बी कतार सी है। पन्द्रह साल पुराने बिहार को याद करता हूं तो अभी पीठ का जानलेवा दर्द याद आ जाता है। कार का चालक बताता है कि अब पहले जैसा बिहार नहीं है। हमारे यहां भी दूसरे राज्यों की तरह सबकुछ है। नीतीश कुमार को केन्द्र के साथ रहने का लाभ मिला है। इसीलिए यहां पर मोदी के पक्ष में हवा है। तीन रानी पंचायत के महारानी चौक पर चौपाल में चाय की दुकान पर कुछ लोग जमे हुए हैं। लोग शंका से देखते हैं। परिचय देने पर खुल जाते हैं। मैने बातचीत शुरू करने के लिहाज से पूछा कि कौन जीत रहे हैं। एक साथ कई आवाजें आती है, वही जीत रहा है। मैं पूछता हो कौन तो जवाब मिलता है, वहीं जो अभी देश पर राज कर रहा है। पाकिस्तान को घुसकर मारा है। मोदी जी। जब ये पूछा जाता है कि भाजपा का प्रत्याशी कौन है तो कहते हैं उससे कोई फर्क नहीं पडता कि कौन है अभी तो मोदी को लाना है। कन्हैया कुमार को लेकर सवाल करने पर वहां के मुखिया बालचन्द्र पासवान कहते हैं कि कन्हैया अच्छे पढे लिखे हैं लेकिन देश के खिलाफ बोलने के कारण बिहार का बदनामी हुआ है। चाय बना रहा मुकुल राय कहता है कि पहली बार उसके खाते में शौचालय और दूसरी योजनाओं के पैसे आए हैं। विकास के काम हो रहे हैं। कमाने के लिए अब बाहर नहीं जाते। ये सब नीतीश अैर मोदी के कारण हुआ है। लालू यादव की पार्टी राजद के बारे में पूछने पर कहते हैं कि उनके कुनबे में जादवी (यादव) संघर्ष मचा है। कुछ लोग यहां पर तनवीर हसन का समर्थन करते मिले तो कन्हैया कुमार के समर्थक भी मिले।


बेगूसराय के नजदीक पहुंचता हूं तो रास्ते में कन्हैया कुमार के प्रचार वाहन मिल जाते हैं। कुछ गांवों के बाहर जनसंवाद कार्यक्रम के बैनर लगे दिखाई देते हैं। पूछने पर पता लगा कि कन्हैया कुमार और उनके समर्थक स्टार प्रचारक गांवों में जाकर लोगों के साथ संवाद करते हैं। एक खेत में गेहूं की कटाई का काम चल रहा था। वहां रुके तो थ्रेसर चलाने वाले लोगों का लंच चल रहा था। पता लगा कि फसल कटाई और परिवार के विवाह समारोह में भाग लेने दूसरे शहरों में बसे राजवीर, श्यामरंजन आए हुए हैं। बातचीत शुरू होते ही कहते हैं कि कन्हैया कुमार को नाहक हीरों बना रखा है मीडियावालों ने। यहां पर कुछ गांवों में तो देशद्रोही कहकर घुसने ही नहीं दिया। बडा कैडर होने की बात पर कहते हैं देखिए, इस कैडर के कारण बेगूसराय में पहले काफी खून बह चुका है अब और नहीं। अब कैडर भी इतना बड़ा नहीं है जितना बताया जा रहा है।

 


बेगूसराय के बलिया में एक जगह रुकने पर बातचीत का क्रम शुरू होता है तो लोग मुकाबला गिरिराज सिंह और तनवीर हसन के बीच में बता रहे थे। उनका कहना था कि मुसलमान, यादव और निरपेक्ष वोट तनवीर हसन को मिलेगा। तनवीर हसन पिछली बार हारने पर भी क्षेत्र के लोगों के सम्पर्क में रहे हैं। राष्ट्रवादी, भाजपा के वोटों के साथ ही पचपवनिया जातियों का वोट भी गिरिराज को मिलेगा। भूमिहारों का वोट कन्हैया और गिरिराज के बीच बटेंगे। बेगूसराय के हनुमान ढाबा पर जमी चौपाल के बीच भूमिहार गुलाब राय कहते हैं कि मुकाबला गिरिराज सिंह और तनवीर के बीच है। कन्हैया वोट कटुआ साबित होंगे। मुल्ला बदरुद्दीन कहते हैं कि मुसलमान कन्हैया की तरफ नहीं जाएंगे। चाहे जो भी हो यदि कन्हैया मुसलमानों के कारण जीतते हैं तो यह क्षेत्र के लिए अच्छा नहीं होगा। मोदी को नहीं देंगे लेकिन देश के खिलाफ भी नहीं जाऐंगे। बलिया से वापस लौटते समय कन्हैया कुमार के सडक़ किनारे के प्रचार कार्यालय पर रुके तो मनोरंजन कुमार सिन्हा मिले। उन्होंने कहा कि गिरिराज और तनवीर हसन दोनों को ही कन्हैया कुमार काफी पीछे छोड देंगे। देशद्रोह के आरोपों पर कहते हैं कि सरकार ने कन्हैया पर दमन करने के लिए ऐसे आरोप गढे हैं।

 

गिगिराज सिंह-सब अच्छा चल रहा है-

मटियामेडवा पंचायत में प्रचार कर रहे गिरिराज सिंह का काफिला मिलता है पूछने पर गिरिराजसिंह रुकते हैं और कहते हैं। अच्छा चल रहा है। पार्टी के विश्वास को तोडूंगा नहीं। मोदी जी की हवा है और ये आंधी में बदलेगी। तनवीर हसन बेगूसराय के अंदर प्रचार करते मिले-पूछने पर कहते हैं कि मेरा मुकाबला गिरिराज से है। कन्हैया कुमार के कारण सेकूलर वोटों का नुकसान हो रहा है। काफी प्रयासों के बाद भी कन्हैया नहीं मिले। कसी पंचायत में प्रचार के लिए बताया जाता तो पता लगता कि वहां तो शाम को आने का कार्यक्रम है।