स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

देशी घी के भरोसे ही चल रही एगमार्क प्रयोगशाला

Sunil Kumar Jain

Publish: Sep 22, 2019 13:03 PM | Updated: Sep 22, 2019 13:03 PM

Beawar


पीसे हुए मसाले की मात्रा भी ज्यादा नहीं
जांच की सुविधा तो है लेकिन उद्यमी नहीं दिखाते रूचि
तेल, साबुत मसाला, चावल, दाल, गेहूं, सूजी, बेसन, मैदा की नहीं करवाते जांच


सुनिल जैन
ब्यावर. राजकीय एगमार्क प्रयोगशाला में विभिन्न प्रकार की जांच के लिए सुविधा तो है लेकिन यह जांच सरस घी व कुछ मात्रा में पीसे हुए मसाले तक सीमित होकर रह गई है। यहां पर तेल, साबुत मसाला, पीसा शहद, चावल, दाल, गेहूं, सूजी, बेसन, मैदा, सूखा नारियल पावडर की कोई उद्यमी जांच नहीं कराता है। इस बात का अन्दाज प्रयोगशाला में होने वाली आय को देखकर लगाया जा सकता है। गत वर्ष डेढ़ लाख की आय पीसे हुए मसालों व तेईस लाख की आय सरस घी की जांच से हुई। इसी प्रकार इस वित्तीय वर्ष में भी करीब पचास हजार की आय पीसे हुए मसालों व करीब पौने दस लाख की आय घी से हुई है। गौरतलब है कि जांच के बाद एगमार्क पांच साल के लिए जारी किया जाता है और इसके लिए न्यूनतम मात्रा निर्धारित है। यहां पर अजमेर, भीलवाड़ा, चित्तोड़ व उदयपुर की सरस डेयरी के घी की जांच कर एगमार्क दिया जाता है। घी के लिए तीस रुपए क्विंटल व मसालों के लिए पच्चीस रुपए क्विंटल की जांच दर तय है।

प्रदेश में 8 प्रयोगशाला
ब्यावर सहित जयपुर, अलवर, जोधपुर, भरतपुर, बीकानेर, श्रीगंगानगर, निवाई में एगमार्क प्रयोगशाला है।

इनकी होती है जांच
तेल, घी, साबुत मसाला, पीसा मसाला, शहद, चावल, दाल, गेहूं, सूजी, बेसन, मैदा, सूखा नारियल पावडर की एगमार्क प्रयोगशाला में जांच होती है।


एक केमिस्ट के भरोसे
एगमार्क प्रयोगशाला में एक केमिस्ट, एक सहायक केमिस्ट, एक लैब असिसटेन्ट, एक चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी का पद स्वीकृत है, लेकिन यहां पर वर्तमान में एक केमिस्ट का पद ही भरा हुआ है। लैब असिसटेन्ट संविदा पर रखा है।

आय : एक नजर
अप्रेल 2018 से मार्च 2019 तक
पीसे मसाला 1,50,455 रुपए
घी देशी 22,80,464 रुपए
अप्रेल 2019 से अगस्त 2019 तक
पीसे मसाला 47,217 रुपए
घी देशी 9,65,055 रुपए

इनका कहना है...
पांच साल के लिए एगमार्क जारी किया जाता है। यहां पर ज्यादातर सरस घी की जांच होती है। कुछ मात्रा में पीसे हुए मसालों की जांच की जाती है। स्टाफ की कमी है। उच्च अधिकारियों को अवगत कराया है।
कानाराम डाबरिया, प्रभारी व केमिस्ट, एगमार्क प्रयोगशाला ब्यावर