स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

निकाली रैली, दिया धरना, जताया आक्रोश

Tarun Kashyap

Publish: Sep 20, 2019 20:15 PM | Updated: Sep 20, 2019 20:15 PM

Beawar


पृथ्वीराज चौहान की प्रतिमा लगाने का मामला : गणेशपुरा से शुरु हुई वाहन रैली, मिशन ग्राउंड से पैदल निकाली रैली, प्रशासन के नारेबाजी कर जताया रोष


ब्यावर. गणेशपुरा में पृथ्वीराज चौहान की लगाई गई प्रतिमा को हटाने के मामले ने अब तुल पकड़ लिया है। राजस्थान रावत राजपूत समाज के लोग शुक्रवार को गणेशपुरा स्थित मंदिर पर एकत्र हुए। यहां से वाहन रैली के रुप में मिशन ग्राउंड तक एवं मिशन ग्राउंड से उपखंड अधिकारी कार्यालय तक पैदल रैली निकाली गई। रैली के दौरान आक्रोशित लोग नारेबाजी करते हुए चल रहे थे। समाज की ओर से उपखंडअधिकारी को ज्ञापन सौपा। इसमें प्रतिमा को वापस स्थापित किए जाने की मांग की। मूर्ति को मौके से ले जाने वालों के खिलाफ प्रकरण दर्ज करने की मांग की। गणेशपुरा में गत दिनों लोगों की ओर से पृथ्वीराज चौहान की प्रतिमा स्थापित की गई। इसकी सूचना मिलने पर पहुंची शहर थाना पुलिस ने मौके से पृथ्वीराज चौहान की प्रतिमा को उठाकर थाने ले आए। लोगों का आरोप था कि इससे प्रतिमा खंडित हो गई। लोग पृथ्वीराज चौहान की प्रतिमा वापस स्थापित करने की मांग कर रहे है। यह मांग नहीं माने जाने पर शनिवार को समाज के लोग गणेशपुरा स्थित माता के मंदिर से नारेबाजी करते हुए वाहन रैली रवाना हुई। रैली गणेशपुरा, पानी की टंकी, उदयपुर रोड, महाविद्यालय, चांगगेट होते हुए मिशन ग्राउंड पहुंची। यहां से पैदल रैली शुरु हुई। इसमें लोग पृथ्वीराज चौहान की प्रतिमा लगाने की मांग को लेकर व प्रतिमा को खंडित करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर नारेबाजी करते हुए चल रहे थे।
उपखंड कार्यालय के सामने लोगों ने धरना दिया। इस अवसर पर विधायक शंकरसिंह रावत ने संबोधित किया। उन्होंने कहा कि इस मामले को प्रशासन को गंभीरता से लेना चाहिए एवं कार्रवाई करनी चाहिए। इस अवसर पर वक्ताओं ने मांग नहीं माने जाने एवं उचित कार्रवाई नहीं होने पर आंदोलन को तेज करने एवं महापडाव डालने की चेतावनी भी दी। इस अवसर पर श्रवणसिंह भाटी, करणसिंह कडिवाल, नाथूसिंह, महासभा अध्यक्ष हरिसिंह सुजावत, गोपालसिंह पीटीआई, गणपतङ्क्षसह मुग्धेश, बलवंतसिह भाटी, विक्रांतङ्क्षसह, सूरजप्रतापसिंह, कुलदीपसिंह, धर्मसिंह कडिवाल, महेन्द्रसिंह, नाथूसिंह, महेन्द्रसिंह रावत, मेवासिंह, टीकमसिंह, कर्नल देवीसिंह, मेजर केसरसिंह, रामसिंह काबरा, गंगा रावत, विरेन्द्रसिंह, नरेन्द्रसिंह सहित अन्य उपस्थित थे।