स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

छोटा सा गौरव पथ, उसकी भी सार सम्भाल नहीं

Sunil Kumar Jain

Publish: Sep 19, 2019 21:31 PM | Updated: Sep 19, 2019 19:40 PM

Beawar


गौरव खो रहा पथ : सार्वजनिक निर्माण विभाग की अनदेखी
कहीं डिवाइडर क्षतिग्रस्त किया तो कहीं रोड पर हादसों को आमंत्रण देते गड्डे
हरियाली को ग्रहण, बिना ट्री गार्ड ही लगा दिए पौधे, सुरक्षा के नहीं कोई इंतजाम

सुनिल जैन

ब्यावर. शहर को नेशनल हाइवे से जोडऩे के लिए प्रवेश द्वार से ही शुरू किए गया छोटा सा गौरव पथ सार्वजनिक निर्माण विभाग की अनदेखी से दुर्दशा का शिकार हो रहा है। कहीं पर डिवाइडर तोड़ दिया गया तो कहीं पर गड्डे हादसों को आमंत्रण दे रहे है। यहां छह फीट चौडे डिवाइडर पर हरियाली के लिए लगाए गए पौधों के सुरक्षा का कोई इंतजाम नहीं है। यहां पर कहीं पर गड्डे खोद कर छोड़ दिए तो कहीं पर बिना ट्री गार्ड ही पौधे लगाए गए है। गौरतलब है कि गौरव पथ की लम्बाई 800 मीटर है। इसके लिए 250 लाख रुपए स्व्ीकृत हुए और करीब 160 लाख रुपए निर्माण में खर्च किए गए। इसका निर्माण कार्य करीब डेढ़ साल पहले पूरा हुआ। वर्तमान में यह सड़क गारन्टी पीरीयड में है।

कैसे होगी सुरक्षा, बढेग़ी हरियाली?
गौरव पथ पर 55 पौधे लगाने के लिए स्थान चिह्नित किए और 19 पौधे ट्री गार्ड सहित लगाए गए। लेकिन 24 पौधे बिना ट्री गार्ड ही लगा दिए गए, जिनके पास मवेशी मुंह मारते देखे जा सकते है। इसी प्रकार 12 गडडे़ खोद कर छोड़ दिए गए। एेसे में इन पौधों की सुरक्षा और हरियाली बढऩे की कोई उम्मीद नहीं है।

एक कट दिया लेकिन फिर भी तोड़ा
गौरव पथ की शुरूआत के दौ सौ मीटर बाद ही एक बड़ा कट दिया गया है जिससे दो पहिया और भारी वाहनों की आवाजाही हो सकती है। इसके बावजूद थोड़ी ही दूर पर डिवाइडर को तोड़कर रास्ता बना लिया गया है, जहां से दो पहिया वाहन चालक गुजर सकते है। एेसे में यहां पर हादसे की सम्भावना से भी इनकार नहीं किया जा सकता।

बड़ा चौड़ा गड्डा, क्षतिग्रस्त सड़क
गौरव पथ पर दो जगह गड्डे बने है। एक जगह पर तो करीब सौ फीट चौडा़ई में गड्डा है जो हादसे को आमंत्रण दे रहा है। यह सड़क गारंटी पीरीयड में है और एेसे में संवेदक को इसे दुरस्त करना चाहिए लेकिन सार्वजनिक निर्माण विभाग की अनदेखी के कारण इसकी मरम्मत तक नहीं हो पा रही है।

एक किलोमीटर बनाना था
गौरव पथ के लिए 250 लाख स्वीकृत हुए और 160 लाख ही खर्च हुए। यह रोड भी एक किलोमीटर बनाना था लेकिन पूरा नहीं बनाया जा सका। एेसे मंे राशि भी बच गई और रोड भी पूरा नहीं बना।

इनका कहना है...
गौरव पथ 800 मीटर का ही है। डिवाइडर पर हरियाली के लिए पौधे लगाए जा रहे है और सुरक्षा के इंतजाम भी करेंगे। जहां पर गौरव पथ क्षतिग्रस्त है, उसकी मरम्मत करा दी जाएगी।
एस.एस सलुजा, सहायक अभियंता, सार्वजनिक निर्माण विभाग ब्यावर