स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

व्यक्ति विकास के लिए शिक्षा व संस्कार जरूरी

Sunil Kumar Jain

Publish: Aug 12, 2019 17:47 PM | Updated: Aug 12, 2019 17:47 PM

Beawar

व्यक्ति विकास के लिए शिक्षा व संस्कार जरूरी

रामद्वारा में शिवपुराण कथा : संत गोपाल राम ने किया सम्बोधित

ब्यावर. संत गोपाल राम महाराज ने कहा कि व्यक्तित्व के विकास में शिक्षा व संस्कार का होना जरूरी है। शिक्षक बच्चों को ज्ञान देने के साथ-साथ संस्कार भी सिखाता है। शिव महापुराण कथा के पांचवें दिन रामद्वारा में संत ने कहा कि अच्छा शिक्षक वही है जो बच्चों को अच्छी शिक्षा देने के साथ-साथ जीवन पथ पर आगे बढऩे के लिए सही मार्ग दर्शन भी करे। लेकिन हमें ध्यान रखना चाहिए कि केवल शिक्षा पर जोर देंगे तो यह दुनिया आगे चलकर पंगु बन जाएगी। रिश्तों में दिनों दिन आ रही टूटन, पति पत्नी के बीच बढ़ते तलाक, भाई-भाई में टकरार, माता पिता की सेवा के प्रति उदासीनता संस्कारों की कमी का ही परिणाम है। घर के बाहर खड़ी कार हमारी समृद्धि की पहचान है, पर घर के अंदर के संस्कार हमारी कुलीनता की परिचायक है। हमने बच्चों को कार नहीं दी तो वे 2 दिन रोएंगे और संस्कार न दिए तो वे जिंदगी भर रोएंगे और हमें भी रुलाएंगे। उन्होंने कहा कि बच्चों को अच्छे मूल्य और अच्छे संस्कार देवें ताकि हम उन पर सदा गौरव कर सकें। सुंदर मकान का निर्माण पत्थरों से होता है, सुंदर शहर का निर्माण पेड़ों से होता है, पर सुंदर मानव जाति का निर्माण नई पीढ़ी को संस्कारित करने से होगा। अगर हमने बच्चों को भाग्य के भरोसे छोड़ दिया तो बुढ़ापे में हमारे भाग्य का खराब होना तय है। बच्चों को उन विद्यालयों में पढ़ाएं जहां ऊंची शिक्षा के साथ ऊंचे संस्कार भी दिए जाते हैं, नहीं तो वह पैसा कमाना तो सीख जाएगा, पर परिवार का पालन पोषण करना सीख नहीं पाएगा। भगवान शिव पार्वती कार्तिक गणेश और रिद्धि सिद्धि का विवाह महोत्सव झांकियों के साथ धूमधाम से मनाया गया। मंगलवार को 12 ज्योतिर्लिंग की कथा श्रवण कराई जाएगी।