स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

हत्यारोपी पति की गिरफ्तारी से लगा सदमा, पत्नी की मौत, शव लेकर लोग एसपी कार्यालय पहुंचे

Mohd Rafatuddin Faridi

Publish: Sep 10, 2019 09:10 AM | Updated: Sep 10, 2019 09:10 AM

Basti

एक महीने पहले फंदे पर लटकता मिला था शव, पुलिस ने हत्या का मुकदमा दर्ज कर मृतक की पत्नी को किया था गिरफ्तार। एक महीने बाद मृत महिला के पति को किया है गिरफ्तार।

बस्ती. यूपी के बस्ती जिल में हत्या के मामले में पुलिस ने जिसे आरोपी बनाकर गिरफ्तार किया उसकी पत्नी की सदमे से इलाज के दौरान मौत हो गयी। महिला की मौत के बाद उसके परिजन व क्षेत्रिय लोग आक्रोशित हो गए और महिला का शव लेकर एसपी कार्यालय पहुंच गए। एसपी कार्यालय के पास शव सड़क पर रखकर जमकर विरोध प्रदर्शन और हंगामा किया। इसकी खबर मिलते ही मौके पर भारी पुलिस बल पहुंच गया। देर रात तक लोगों को समझाने की कोशिश की गयी, लेकिन लोगों के न मानने के चलते पुलिस मौके पर बुलाए गए शव वाहन में महिला का शव नहीं रखवा सकी।

महिला की मौत के बाद ग्रामीणों ने शव को चारपाई पर रखा और डीएम से मिलने उनके आवास की ओर बढ़े जा रहे थे। पुलिस को सूचना मिली तो सीओ सिटी, सीओ रुधौली, सीओ कलवारी सहित कटरा, सिविल लाइंस आदि मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने ग्रामीणों को आगे बढ़ने से रोक दिया गया। इससे लोगों का गुस्सा और बढ़ा गया। ग्रामीणों ने शव को एसपी कार्यालय के पास हीसड़क पर रख दिया और जमकर हंगामा काटा। वहां हंगामा और आक्रोश बढ़ता देखकर एसडीएम सदर व पीएसी के जवान भी पहुंच गए। पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों ने नाराज ग्रामीणों को समझाने की बहुत कोशिश की, लेकिन वो लोग मानने को तैयार नहीं थे। विरोध प्रदर्शन करने वालों में महिलाओं की संख्या ज्यादा रही।

खबर मिलने पर बस्ती सदर विधायक दयाराम चौधरी पहुंच गए, जिसके बाद परिजनों, रिश्तेदारों और गांव वालों ने मुंडेरवा एसओ पर दो लाख रुपये न देने पर युवक को फर्जी फंसाने का आरोप लगाया। गांव वाले थाना प्रभारी को तत्काल निलंबित कर प्रकरण की जांच कराने की मांग पर अड़े रहे। विधायक ने जांच का आश्वासन दिया, लेकिन गांव के लोग थाना प्रभारी के तत्काल निलंबन की मांग पर अड़े रहे। देर रात विधायक ग्रामीणों को समझाने की कोशिश करते रहे।

ये है पूरा मामला

बीते एक अगस्त को मुंडेरवा थानाक्षेत्र के परसा हज्जाम गांव में उमेश चौधरी नाम के युवक की फंदे से लटकती लाश मिला थी। पुलिस ने बाद में हत्या का मुकदमा दर्ज कर मृतक की पत्नी सोनी को गिरफ्तार कर लिया। इस मामले में गांव के ही मुरली चौधरी नाम के युवक को भी उमेश का हत्यारोपी बनाया गया। उसके पिता रामसुमेर का दावा है कि मुरली की गलती सिर्फ इतनी थी कि उसने फंसरी काटकर उमेश को नीचे उतारा था। पुलिस ने उल्टे उसे ही हत्या का मुल्जिम बना दिया है। इतना ही नहीं इस मामले में मुंडेरवा के प्रभारी निरिक्षक पर रुपये मांगने का आरोप लगाते हुए कहा कि रकम नहीं दे पाने पर उनके बेटे को घटना के एक महीने के बाद दो सितम्बर को गिरफ्तार कर लिया गया, जिसका सदमा उनकी बहू बर्दाश्त नहीं कर पायी। सोमवार को इलाज के दौरान उसने जिला अस्पताल में दम तोड़ दिया।

By Satish Srivastava