स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पुलिस ने एढी से चोटी जितना लगाया जोर, पकड़ में नहीं आए आरोपी

Kailash Chand Barala

Publish: Sep 22, 2019 18:58 PM | Updated: Sep 22, 2019 18:58 PM

Bassi

-शिवलिंगों को खंडित करने के मामले में पुलिस खाली हाथ

शाहपुरा.
शाहपुरा पुलिस थाना इलाके में शाहपुरा-नीमकाथाना स्टेट हाईवे पर पंचायत समिति के पास रामेश्वरदास महाराज मंदिर में द्वादश शिवलिंगों को खंडित करने के मामले में दूसरे दिन रविवार को भी पुलिस खाली हाथ रही। आरोपी पुलिस की पकड़ से दूर है।
हालांकि थाना प्रभारी सीएम जाखड़ ने विशेष टीम का गठन कर आरोपितों को पकडऩे के लिए एढी से चोटी जितना जोर लगा रखा है। पुलिस ने रविवार को कॉल डिटेल के आधार पर जांच शुरू की। साथ ही कस्बे में लगे सीसीटीवी फुटेज भी खंगाले है। घटना के बाद से देर रात तक संदिग्ध लोगों से पूछताछ करने में जुटी रही, लेकिन आरोपितों का कोई सुराग नहीं लग पाया। थाना प्रभारी जाखड़ ने बताया कि मामले को गंभीरता से लेकर हर पहलू पर जांच जारी रही है। उम्मीद है जल्द ही आरोपित पकड़े जाएंगे। कॉल डिटेल के आधार पर जांच करने के साथ ही सीसीटीवी कैमरों से फुटेज खंगाले है। संदिग्ध लोगों से पूछताछ भी की जा रही है।
उल्लेखनीय है कि शाहपुरा-नीमकाथाना स्टेट हाईवे पर पंचायत समिति के पास रामेश्वरदास महाराज मंदिर में समाजकंटकों ने द्वादश शिवलिंगों को खंडित कर दिया था। साथ ही दो शिवलिंगों को उखाड़कर फेंक भी दिया था। शिवलिंगों से नाग की प्रतिमा टूटी मिली थी। मामले में छीतरदासजी महाराज, भींवादासजी महाराज, सुदामादास समेत बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने नाराजगी जाहिर करते हुए पुलिस से दो दिन में आरोपितों को पकडऩे की मांग की थी। साथ ही दो दिन में आरोपितों को नहीं पकड़े जाने पर धरना शुरू करने की भी चेतावनी दी थी।
--------
पांच साल पहले हुए थी शिवलिंगों की स्थापना
जानकारी के मुताबिक रामेश्वरदासजी मंदिर परिसर में करीब पांच साल पहले द्वादश ज्योतिर्लिंग शिवलिंगों की स्थापना की गई थी। शुक्रवार रात को समाजकंटक उक्त शिवलिंगों के शेषनाग को तोड़ दिए और दो शिवलिंगों को उखाड़कर मंदिर के बाहर सड़क किनारे फेंक दिए। घटना के बाद डीएसपी राजेश मलिक, थाना प्रभारी सीएम जाखड़ ने मौका मुआयना किया था। जयपुर से पहुंची डॉग स्क्वायड व एफएसएल टीम ने मौके से साक्ष्य भी जुटाए थे।