स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

स्कूल में दो माह से नहीं बना पोषाहार, बर्तनों पर जमी धूल

Satya Prakash

Publish: Sep 18, 2019 19:26 PM | Updated: Sep 18, 2019 19:26 PM

Bassi

-महिला कुक का भुगतान नहीं होने से आ रही परेशानी

स्कूल में दो माह से नहीं बना पोषाहार, बर्तनों पर जमी धूल

-महिला कुक का भुगतान नहीं होने से आ रही परेशानी

शाहपुरा/जैतपुर खींची.
आमेर ब्लॉक के एक सरकारी विद्यालय में करीब दो माह से विद्यार्थियों के लिए पोषाहार नहीं बन रहा है। यहां पोषाहार पकाने वाली कुक कम हैल्पर व सहायक को पिछले कई माह से मानदेय का भुगतान नहीं करने से उसने पोषाहार बनाना बंद कर दिया। यह मामला है आमेर ब्लॉक के मीणों की ढाणी स्थित राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय का।


उक्त विद्यालय पहले सत्यभारती फ ाउंडेशन के पीपीपी मोड़ पर संचालित हो रहा था। करार समाप्त होने पर शिक्षा विभाग ने विद्यालय को अपने अधीन ले लिया। यहां पोषाहार बनाने वाले महिला को भुगतान नहीं होने की वजह से दो माह से विद्यालय में पोषाहार नहीं बन पाया है। जिससे विद्यार्थियों को पोषाहार से वंचित रहना पड़ रहा है।


यहां पोषहार बनाने वाली महिला को करीब 11 माह व सहायक महिला को 7 माह का भुगतान नहीं हुआ है। जिससे पोषाहार नहीं बन रहा।

हालांकि विद्यालय प्रशासन ने अन्य महिलाओं से पोषाहार बनवाने का प्रयास किया, लेकिन जिन महिलाओं का भुगतान नहीं हुआ, उनका आक्रोश देखकर अन्य महिलाएं भी पोषाहार बनाने के लिए सहमत नहीं हुई। जिसका खामियाजा विद्यार्थियों को उठाना पड़ रहा है।


बर्तनों पर जमी धूल


पोषाहार नहीं बनाने की वजह से रसोईघर का ताला भी दो माह से नहीं खुल पाया है। रसोई घर में विद्यार्थियों को पोषहार खिलाने के बर्तनों पर धूल मिट्टी जम गई है। इधर, पोषाहार नहीं बनने से अभिभावकों में रोष व्याप्त है। अभिभावकों ने विद्यालय प्रशासन एवं विभाग से पोषाहार बनवाने की मांग की है।

इनका कहना है--

विद्यालय में करीब दो माह से पोषहार नहीं बना है। पोषाहार बनाने वाली महिला का भुगतान अटका हुआ है। मामले से उच्च अधिकारियों को अवगत करवा दिया है। ----अजय कुमार यादव, कार्यवाहक संस्था प्रधान, राउप्रावि मीणों की ढाणी।

पोषाहार बनाने वाली महिला का भुगतान जल्द दिलवाया जाएगा और पोषाहार भी जल्द बनवाना शुरू करवाया जाएगा।--अब्दुल रहमान एसीबीओ आमेर।