स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Jaipur rural : दो बच्चों की मौत के बाद हरकत में आया चिकित्सा विभाग, चिकित्सा टीम गठित

Satya Prakash

Publish: Sep 11, 2019 20:30 PM | Updated: Sep 11, 2019 20:30 PM

Bassi

-टीम ने किया सर्वे, 47 मरीजों की ली स्लाइडें

 

जल भराव की जगह डाला एमएलओ


शाहपुरा/मैड़।
तालवा व मैड़ में बुखार से पीडि़त एक बालिका व एक बालक की मौत के बाद हरकत में आए चिकित्सा विभाग ने टीम गठित कर क्षेत्र में डोर-टू डोर सर्वे शुरू कर दिया है।

टीम ने बुधवार को क्षेत्र में सर्वे कर मरीजों की स्लाइडें ली। यहां पानी निकासी के नाले-नालियों व जल भराव वाले स्थानों पर एमएलओ डाला गया।

मैड़ पीएचसी के चिकित्सा प्रभारी डॉ किशोर कुमार डांगी ने बताया कि टीम ने बुधवार को तालवा व बिहाजर में 32 और मैड़ में 15 सहित क्षेत्र में कुल 47 मरीजों की जांच के लिए स्लाइडें ली।

वहीं, जल भराव वाले स्थानों पर दवा डाली गई। टीम में में शामिल एएनएम मौसम देवी व संतोष देवी शर्मा ने ग्रामीणों को मौसमी बीमारियों से बचाव के उपाय बताए। उन्होंने घरों के आस पास गंदा पानी इकट्ठा नहीं होने देने व मच्छरों से बचाव के लिए उपाय बताए।

टीम में एनएनएम मौसम देवी, संतोष शर्मा, मूलचंद शर्मा, आशा सहयोगिनी रजिया बानो सहित अन्य कार्मिक मौजूद थे।


तालवा में कराई फोगिंग

क्षेत्र में बुखार से दो बच्चों की मौत होने व घर घर में मौसमी बीमारियों के मरीज बढऩे से हरकत में आए चिकित्सा विभाग ने टीम गठित कर तालवा में फोगिंग करवाई। सरपंच श्रवणलाल गुर्जर ने बताया कि फोगिंग मशीन के बार-बार बंद होने से सही तरह से फोगिंग नहीं हो पाई है।

मैड़ ग्राम सेवा सहकारी अध्यक्ष शिवदान फागणा ने चिकित्सा विभाग से तालवा में दोबारा व सहित अन्य पंचायतों में भी फोंगिग व बीमारियों से बचाव के कारगार उपाय करने की मांग की है।

फागणा ने बताया कि पुरावाला, मैड़, जौधुला सहित अन्य ढाणियों में लोग मौसमी बीमारियों की चपेट में है। उन्होंने बताया कि तालवा में तीन जने जयपुर निजी अस्पतालों में भर्ती है। उन्होंने चिकित्सा विभाग से गांवों में जाकर बीमार लोगों का सर्वे कर आसपास के गांवों में स्लाईडे लेने व ग्रामीणों को बीमारियों से बचाव के लिए जागरूक करने की भी मांग उठाई है।

भोलाराम मीणा, नेपाल सिंह तंवर, तेवड़ी जीएसएस अध्यक्ष हंसराज गुर्जर, जगदीश भाया ने बताया कि मैड़ कूण्डला क्षेत्र बुखार व अन्य मौसमी बीमारियों को लेकर संवेदनशील क्षेत्र है। यहां समय-समय पर दवा का छिड़काव जरूरी है।


गौरतलब है कि मैड़ कस्बे में शुक्रवार को एक बालक निखिल व सोमवार को तालवा में एक बालिका पपीता की बुखार से मौत हो चुकी है।


इधर, इस संबंध में मैड़ पीएचसी चिकित्सा प्रभारी डॉ. किशोर कुमार डॉगी ने बताया कि क्षेत्र में बीमारियों को लेकर टीम गठित की गई है। तालवा में फोगिंग करवा दी गई है। मशीन में खराबी की जानकारी लेता हूं। पुरावाला, मैड़ भी फोगिंग करवाई जा रही है।