स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

आमेर विधायक पूनिया ने सदन में उठाया सरकारी अस्पताल का मुद्दा, विराटनगर विधायक इंद्राज ने रखी स्वास्थ्य केन्द्रों की सेहत सुधारने की बात

Arun Sharma

Publish: Jul 20, 2019 08:05 AM | Updated: Jul 19, 2019 23:30 PM

Bassi

आमेर विधायक पूनिया ने उठाया सरकारी अस्पताल का मुद्दा, विराटनगर विधायक इंद्राज ने रखी स्वास्थ्य केन्द्रों की सेहत सुधारने की बात


Aamer BJP MLA Dr Satish Puniya Speek In assambly अस्पताल के उद्घघाटन के लिए नहीं मंत्री के पास नहीं समय

Virat Nager MLA Indraj Gurjer ने उठाया अस्पतालों के क्रमोनत करने का मामला

 

जयपुर . Rajasthan assambly विधानसभा में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की अनुदान मांगों पर चर्चा करते हुए आमेर से विधायक डॉ. सतीश पूनिया ने प्रदेश की चिकित्सा व्यवस्था पर गंभीर सवाल उठाए। उन्होंने बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार एक हजार लोगों पर कम से कम एक डॉक्टर होना चाहिए, लेकिन राजस्थान में 10,400 लोगों पर एक चिकित्सक है। डॉ. पूनिया ने बताया कि आमेर में 72 चिकित्सा उप केंद्र हैं, किसी में भवन नहीं हैं तो कहीं नर्स व कंपाउंडर के भरोसे ही काम चल रहा है। उन्होंने कहा कि पीएचसी पर दो डॉक्टर की नियुक्ति जरूरी है। राजधानी के निकट होने के बाद भी वहां पर एक सीएचसी है, जबकि एक हजार के करीब आउटडोर है। आमेर की सीएचसी को जिला hospital अस्पताल अथवा रेफरल hospital अस्पताल बनाकर सुविधाओं को दुरुस्त करने की जरूरत है। जिस तरह से आमेर में जयपुर का अधिकांश पुराना कस्बा आता है, जिसकी जनसंख्या अधिक होने के बाद भी एक सामुदयिक स्वास्थ्य केंद्र के सहारे पूरी आबादी है, लेकिन उसमें भी सोनोग्राफी मशीन तक नहीं है। डॉ. पूनिया ने कहा की पूर्व सरकार के समय साढ़े पांच करोड़ की एक सीएचसी बनाई थी, उसका भवन बनकर तैयार है, लेकिन छह माह होने के बाद भी यहां पर मंत्री को फीता काटने का समय नहीं है। उन्होंने कहा कि अगर इसका उद्घाटन हो जाए तो यहां के 100
Villages गांवों को फायदा मिले। उन्होंने गुढ़ा, सुर्जन, जाहोता, बड़े गांवों को मातृ शिशु कल्याण केंद्र में बदलने की मांग की।

विधायक ने रखी स्वास्थ्य केन्द्रों की सेहत सुधार की बात
विराटनगर.
Virat Nager MLA Indraj Gurjer विधायक इंद्राज गुर्जर ने शुक्रवार को विधानसभा के बजट सत्र के दौरान विधानसभा के राजस्व, चिकित्सा, सहित विभिन्न समस्याओं के मुद्वे उठाकर समाधान की मांग की। सदन में विधायक ने बताया कि विधानसभा के मैड़ गांव 10 ग्राम पंचायतों को केन्द्र है। यहां स्थित राजकीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र को तत्कालीन सरकार ने सीएचसी में क्रमोन्नत करने की घोषणा की थी लेकिन उक्त पीएचसी को सीएचसी में क्रमोन्नत करने के आदेश नहीं होने के कारण ये सीएचसी में क्रमोन्नत नहीं हुई। उन्होंने कहा कि यदि मैड़ पीएचसी को सीएचसी में क्रमोन्नत किया जाता है, तो 10 ग्राम पंचायतों के लोगों को चिकित्सा सुविधाओं में इजाफा होगा। विधायक ने मैड़ एवं आंतेला पीएचसी को सीएचसी में क्रमोन्नत करने एवं बाड़ीजोड़ी, छापूड़ा, भांकरी, पालड़ी,मंडा में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र खोलने की मांग की। विधायक ने अवगत कराया विराटनगर सीएचसी में १४ चिकित्सकों के पद स्वीकृत है जिनमें तीन चिकित्सकों के पद रिक्त एवं एक चिकित्सक ने अन्यत्र डेपुटेशन करवा रखा है। विधायक ने रिक्त पदों को भरने एवं चिकित्सक का डेपुटेशन निरस्त करने की मांग की। विधायक ने विधानसभा में विराटनगर सीएचसी एवं पावटा सीएचसी में सोनाग्राफी मशीन लगाने, विधानसभा के चिकित्सा केन्द्रों पर नर्सिग स्टाफ बढ़ाने, विराटनगर व पावटा सीएचसी को 50 बैड से बढ़ाकर 100 बैड का करने का मुद्दा भी उठाया।
मन्दिर माफी की जमीन को मिले राजस्व हक
विधायक इन्द्राज गुर्जर ने विराटनगर विधानसभा क्षेत्र में मन्दिर माफी की जमीन को राजस्व हक दिलाने का मुद्दा विधानसभा में मुददा उठाया है। विधायक गुर्जर ने विधानसभा में बताया कि विधानसभा क्षेत्र में मन्दिर माफी हजारों बीघा जमीन है। जिनके अनेक मन्दिर व मूर्ति का कोई परोकार नहीं रहा। जिन पर अनेक किसान खेती कर रहे है। कोई मकान बनाकर रह रहा है, जिनको मन्दिर की जमीन होने के कारण ना तो बिजली कनेक्शन मिल पा रहा है ना ही नल व पट्टा मिल पा रहा है। बैंक लोन नहीं मिल पा रहा है जिसकी वजह से परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इसलिए मन्दिर माफी की जमीन पर काबिज लोगों को मालिकाना हक दिलाने के लिए राजस्व मंत्री के पास मांग रखी। साथ ही रिक्त पड़े पटवारियों के पद को भरने की मांग रखी।