स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अस्पताल में पानी ही पानी, छत टपकती, मैदान में भराव और वार्डों के हालात खराब

Om Prakash Mali

Publish: Aug 20, 2019 16:26 PM | Updated: Aug 20, 2019 16:26 PM

Barmer

स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र की छत बरसात के दिनों में टपकती है। इससे वार्ड में भर्ती मरीजों सहित चिकित्सा स्टाफ को परेशानी का सामना करना पड़ता है। अस्पताल का भवन बेहद पुराना होने से हर मानसून में मरीजों, कार्मिकों को परेशानी उठानी पड़ती है।

अस्पताल में पानी ही पानी, छत टपकती, मैदान में भराव और वार्डों के हालात खराब
बरसात आते ही सीएचसी में पानी टपकने की समस्या
समदड़ी. स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र की छत बरसात के दिनों में टपकती है। इससे वार्ड में भर्ती मरीजों सहित चिकित्सा स्टाफ को परेशानी का सामना करना पड़ता है। अस्पताल का भवन बेहद पुराना होने से हर मानसून में मरीजों, कार्मिकों को परेशानी उठानी पड़ती है।
इस बार भी टपका पानी - दो दिनों पूर्व लगातार हुई बरसात पर अस्पताल के हालत बिगड़ गए। बरसात का पानी छत से वार्डों कमरों में टपका । दोनों वार्डो स्टाफ रूम, जननी सुरक्षा योजना कक्ष सहित इनके आगे बने बरामदे की छत से टपका पानी एकत्रित हो गया । वार्ड व दवाई के स्टोर रूम के आसपास भी पानी का जमावड़ा हो गया । इससे मरीजों, कार्मिकों को अधिक परेशानी उठानी पड़ी।
पानी का भराव होता है- अस्पताल का भवन बेहद पुराना व भूमि के समतल पर बने होने पर अधिक बरसात पर पानी इसमें घुसता है । अस्पताल के बाहर की सड़क ऊंची होने से आस पास का बरसाती पानी अस्पताल के भीतर आ जाता है । अस्पताल के ऊपरी भाग का पानी भी यहीं पर जमा होता है। अधिक बरसात होने पर यह पानी वार्डो के भीतर भी घुसता है। इससे भी मरीजों व चिकित्सा स्टाफ को परेशानी उठानी पड़ती है।
भवन पुराना होने से बरसात के दिनों में पानी छत से वार्डों में टपकता है । समय-समय पर मरम्मत करवाई जाती है। छत्त मरम्मत के लिए टेंडर जारी हो चुके हैं। शीघ्र ही मरम्मत का कार्य करवाएंगे।
डॉ. शिवमंगल नॉगल चिकित्साप्रभारी