स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बाड़मेर के गिड़ा व शिव में टिड्डी का हमला, फसलों को नुकसान

Mahendra Trivedi

Publish: Sep 20, 2019 12:16 PM | Updated: Sep 20, 2019 12:16 PM

Barmer

गिड़ा के रतेऊ, हेराजोनियों की ढाणी, पटाली नाडी, दलोनियों की ढाणी, धीरोनियों की ढाणी से होकर टिड्डी दल झाख की तरफ निकला। इस दौरान खेतों में फसल को नुकसान पहुंचाया। वहीं शिव के उंडू, राजबेरा, कानासर, आरंग सरहद में गुरुवार दोपहर बाद टिड्डी दल ने हमला किया।

बाड़मेर: गिड़ा शिव क्षेत्र के कई गांवों में गुरुवार को टिड्डी दलों ने हमला किया। इस दौरान जमीन पर पीली चादर बिछ गई। वहीं खेतों में खड़ी फसल व पेड़-पौधे भी टिड्डियों से लद गए। टिड्डी दल जहां भी बैठा वहां घास व फसल को चौपट कर दिया। किसानों ने बर्तन बजाकर भगाने का प्रयास किया ग्रामीणों ने कृषि विभाग व प्रशासन को सूचना दी।
गिड़ा के रतेऊ, हेराजोनियों की ढाणी, पटाली नाडी, दलोनियों की ढाणी, धीरोनियों की ढाणी से होकर टिड्डी दल झाख की तरफ निकला। इस दौरान खेतों में फसल को नुकसान पहुंचाया। वहीं शिव के उंडू, राजबेरा, कानासर, आरंग सरहद में गुरुवार दोपहर बाद टिड्डी दल ने हमला किया।
बारिश के लिए किया था इंतजार
बीते वर्ष अकाल की मार के बाद इस बार भी खरीफ बुवाई के लिए किसानों ने बारिश का लम्बा इंतजार किया। देरी से हुई बरसात पर किसानों ने खेत जोते। इन दिनों कई खेतों में खड़ी फसल को टिड्डी दल ने काफी नुकसान पहुंचाया। इससे अब किसानों ने चेहरे पर फिर चिंता की लकीरें नजर आ रही है। प्रशासन की आरे से टिड्डी नियंत्रण को लेकर प्रभावी प्रयास नहीं हो रहे हैं।
फिर डाला मुश्किल में
इस साल कम बारिश की वजह से किसान पहले ही चिंतित थे, आखिरी समय में बरसात से कुछ राहत मिली। टिड्डी दल ने किसानों को फिर मुश्किल में डाल दिया।
-नरपतराम भाम्भू, किसान रतेऊ
कर देती सफाया
कम बारिश की वजह से बड़ी मुश्किल से जमाना अब जाकर जमा ही था कि टिड्डी ने हमला कर दिया। गनीमत रही कि ज्यादा देर नहीं रुकी, वरना सफाया कर देती।
- विजय गोदारा, किसान रतेऊ