स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बाबा रामदेव अवतार धाम रामदेरिया में मंदिर प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव

Moola Ram Choudhary

Publish: Dec 06, 2019 19:02 PM | Updated: Dec 06, 2019 19:02 PM

Barmer

-धर्म समाज में सौहार्द के रिश्तों में आती है प्रगाढ़ता

- हाथी-घोड़ों के साथ निकला वरघोड़ा

बाड़मेर. शिव बाबा रामदेव अवतार धाम रामदेरिया (काश्मीर) में नवनिर्मित मंदिर प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव के आठवें दिन गुरुवार सुबह 10 बजे वरघोड़ा यात्रा के साथ शुरुआत हुई। इसमें हाथी-घोड़े व रथ के साथ रामदेवजी के जीवन से सम्बधित झांकियां सजाई गई। इस दौरान बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने भाग लिया।

परिक्रमा निज मंदिर से रवाना होकर गांव की मुख्य गलियों से होते हुए निज मंदिर पहुंची। इस दौरान पुलिस की माकूल व्यवस्था रही। वरघोड़ा यात्रा के दौरान ड्रोन से पुष्प वर्षा की गई।

डीजे की मधुर धुन के साथ सैकड़ों महिलाओं ने मंगल गीत गाए साथ ही बाबा के जयकारों से आसमान गुंजायमान हो गया। यात्रा के आगे चलता मदमस्त हाथी आकर्षण का केंद्र रहा।

संत कृपाराम महाराज के सान्निध्य में नौ दिवसीय शिवपुराण कथा की पूर्णाहुति से पूर्व भजन-कीर्तन से पांडाल गुंजायमान रहा। कथावाचक ने कहा कि प्रेम की गंगा बहने से हमारे धर्म समाज में सौहार्द के रिश्तों में प्रगाढ़ता आती है।

उन्होंने कहा कि मनुष्य को भक्ति साधना प्रेम व श्रद्धा से करनी चाहिए। प्रेम, श्रद्धा, सेवा संयुक्त भक्ति से मनुष्य को मोक्ष की प्राप्ति होती है।

बाबा रामदेव लीलामृत कथावाचक युवाचार्य अभायदास महाराज ने कहा कि बाबा रामदेवजी श्रीकृष्ण का अवतार माने जाते हैं। 33 वर्ष के अल्पकाल में उन्होंने कई चमत्कार किए।

धर्म सभा में मनोज्ञसागर महाराज ने कहा कि मनुष्य को प्रत्येक प्राणी पर दयाभाव रखना चाहिए। हमे गो वंशों की सेवा व सुरक्षा करनी चाहिए, क्योंकि इसके बिना मनुष्य सुखी नहीं हो सकता। गुरुवार रात को जीतू माली पोकरण, राम-श्याम बरेली व आनन्दिया - चंद्रिमा एंड पार्टी कोलकाता ने प्रस्तुतियां दी।

इस दौरान महंत ओंकार भारती मठ परेऊ, मगनपुरी महंत भिंयाड़, पूर्व मंत्री अमराराम चौधरी, सिवाना विधायक हमीरसिंह भायल सहित कई जनों ने शिरकत की। भोजन प्रसाद इंद्रादेवी-स्व. नेमीचंद वडेरा जोगीदास धाम वाले की ओर से रही।

आज मूर्तियां स्थापित

नौ दिवसीय प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम के अंतिम दिन शुक्रवार को नवनिर्मित मंदिर में मूर्ति स्थापना, कलश स्थापना व ध्वजारोहण के साथ महाआरती।

[MORE_ADVERTISE1]