स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

एसडीएम ना तहसीलदार, कार्यालय में पानी का भी संकट!

Moola Ram Choudhary

Publish: Nov 07, 2019 13:55 PM | Updated: Nov 07, 2019 13:55 PM

Barmer

- रामसर उपखंड अधिकारी व तहसीलदार के पद रिक्त
- कार्यालयों में नहीं आता पर्याप्त पानी, फरियादियों को बोतल का सहारा

रामसर. उपखंड व तहसील मुख्यालय रामसर में आमजन को अधिकारियों की कमी खल रही है। यहां उपखंड अधिकारी का पद 23 अक्टूबर से रिक्त है, वहीं तहसीलदार भी बीते माह सेवानिवृत्त हो गए।

इसके बाद शिव उपखंड अधिकारी तथा गडरारोड के नायब तहसीलदार को रामसर का अतिरिक्त चार्ज दिया हुआ है। किसी भी काम को लेकर आमजन को 80 किलोमीटर दूर शिव या 35 किमी दूर गडरारोड का चक्कर लगाना पड़ रहा है। कार्यालय में पर्याप्त पानी की आपूर्ति नहीं होने से यहां आने वाले फरियादियों को हलक तर करने पानी नहीं मिल रहा है।

अतिरिक्त चार्ज के चलते इन अधिकारियों को अपने मूल काम से भी फुर्सत नहीं मिल रही। ऐेसे में रामसर का सामान्य काम भी पूरा नहीं हो पा रहा है। शिव उपखंड अधिकारी रामसर का अतिरिक्त चार्ज लेने के बाद मंगलवार को जिला कलक्टर के दौरे के दौरान ही रामसर आए।

वहीं गडरारोड नायब तहसीलदार बीते एक सप्ताह में मात्र दो दिन ही एक-एक घंटे के लिए रामसर पहुंचे। इसके अलावा किसी काम को लेकर यहां के बाशिंदों को शिव या गडरारोड तक चक्कर लगाना पड़ता है।

तहसील में अटके ये काम

स्थानीय तहसील कार्यालय में राजस्व कार्य, भूमि नामांतरण, भूमि की रजिस्ट्री, मूल निवास प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र की रिपोर्ट, जमाबंदी, नकल, जन्म प्रमाण पत्र, भामाशाह, पेंशन रिपोर्ट, आंगनबाड़ी, स्वास्थ्य केंद्र का निरीक्षण नहीं हो रहे हैं।

उपखंड के ये काम बाधित

ऐसे ही रामसर उपखंड कार्यालय इन दोनों अधिकारियों के अभाव में जाति प्रमाण पत्र, खाद्य सुरक्षा सूची में नाम जुड़वाना, प्रतिबंधित क्षेत्र में प्रवेश की अनुमति, विद्यालय मिड-डे मील योजना, आंगनबाड़ी केंद्रों का निरीक्षण जैसे कई अन्य काम बाधित हो रहे हैं। वहीं सरकारी योजनाओं का लाभ भी ग्रामीणों को नहीं मिल पा रहा है।

कार्यालयों में भी नहीं होती जलापूर्ति

उपखंड मुख्यालय पर अधिकारियों के नहीं होने से कार्यालय की भी स्थिति बदतर हो गई हैं। क्षेत्र का आमजन तो दूर जलदाय विभाग उपखंड और तहसील कार्यालय में भी जलापूर्ति नहीं कर पा रहा है। ऐसे में यहां आने वाले लोगों को हलक तर करने के लिए भी बाहर से पानी की बोतल लानी पड़ती है।

[MORE_ADVERTISE1]