स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

एक माह पहले चालक के पैर में गोली मार गाड़ी लूटी, आरोपियों की पहचान करने में पुलिस नाकाम

Moola Ram Choudhary

Publish: Nov 08, 2019 19:20 PM | Updated: Nov 08, 2019 19:20 PM

Barmer

- एक भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर सकी पुलिस
- सिवाना थाना इलाके में एक पूर्व हुई थी वारदात

बालोतरा. सिवाना पुलिस थाना इलाके में करीब एक माह पूर्व दिन दहाड़े चालक के पैर में गोली मार बिल्डर की गाड़ी लूटने के मामले में पुलिस अभी भी अंधेरे में तीर मार रही है।

वारदात को एक माह से अधिक समय बीतने के बावजूद पुलिस खाली हाथ है। पुलिस मामले में जांच चलने का बहाना बना अपनी नाकामी छुपा रही है।

पुलिस का मुखबिर तंत्र कमजोर होने के चलते बदमाश दिनदहाड़े वारदात को अंजाम दे गए और पुलिस खुलासा नहीं कर पा रही है। ऐसे में जनता के बीच पुलिस की छवि खराब हो रही है।

सिवाना कस्बे से दो किलोमीटर बालोतरा की तरफ 2 अक्टूबर को बदमाशों ने जयपुर के बिल्डर की गाड़ी का रास्ता रोक चालक के पैर में गोली मार गाड़ी व चालक का मोबाइल फोन लूट ले गए।

इसके बाद पुलिस ने खानापूर्ति के लिए नाकाबंदी भी करवाई, इसके बाद पुलिस के आला अधिकारियों ने मौके पर पहुंच घटना की जानकारी लेकर बदमाशों को जल्द गिरफ्तार करने के निर्देश भी दिए थे।

इतना सब कुछ हो जाने के बाद सिवाना थाना पुलिस एक माह में बदमाशों को पकडऩे में नाकाम रही है। पुलिस अब मामले में तकनीकी सहायता के जरिए मामले की जांच करने के नाम खानापूर्ति करने में जुटी हुई है।

पुलिस उप अधीक्षक का बयान भी थोथा

घटना के बाद बालोतरा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक नरपतसिंह भाटी, पुलिस उप अधीक्षक सुभाषचन्द्र खोजा ने मौका मुआयना किया था।

इसके बाद पुलिस उप अधीक्षक खोजा के सुपरविजन में समदड़ी व सिवाना पुलिस थाने के अधिकारियों-कार्मिकों की 5 विशेष टीमों का गठन कर जल्द से जल्द बदमाशों को धर दबोचने के निर्देश दिए थे। इसके बाद पुलिस उप अधीक्षक ने कई बार लूट के मामले में महत्वपूर्ण सुराग मिलने का दावा किया था, इसके बावजूद घटना को एक माह से अधिक का समय बीत जाने के बावजूद पुलिस न तो लूटी गई गाड़ी बरामद कर सकी और न ही बदमाशों का कोई सुराग लगा पाई।

टीम लगी हुई है

मामले में अनुसंधान किया जा रहा है। टीम लगी हुई है। जैसे ही मुलजिम आएंगे, गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

- शरद चौधरी, पुलिस अधीक्षक बाड़मेर

[MORE_ADVERTISE1]