स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दो दशक पुराने भवन में जर्जर भवन में चल रहा अजीत पीएचसी, हादसे का डर

Om Prakash Mali

Publish: Aug 19, 2019 12:05 PM | Updated: Aug 19, 2019 12:05 PM

Barmer

बालोतरा. अजीत में दो दशक से अधिक पुराना प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र (पीएचसी) हादसों को निमंत्रण दे रहा है। आरसीसी सरियों के सीमेंट छोडऩे व प्लास्टर गिरने पर हर समय हादसा होने का डर चिकित्साकार्मिकों, मरीजों को सताता है। वहीं बरसात में जर्जर भवन के चहुंओर से पानी टपकने पर कामकाज व उपचार को लेकर भी इन्हें अधिक परेशानी उठानी पड़ती है। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के भवन की मरम्मत, जीर्णोंद्धार नहीं करवाने से ग्रामीणों में रोष है।

दो दशक पुराने भवन में जर्जर भवन में चल रहा अजीत पीएचसी, हादसे का डर

- भवन की छत से टपकता बारिश, उखड़ रहा प्लास्टर
बालोतरा. अजीत में दो दशक से अधिक पुराना प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र (पीएचसी) हादसों को निमंत्रण दे रहा है। आरसीसी सरियों के सीमेंट छोडऩे व प्लास्टर गिरने पर हर समय हादसा होने का डर चिकित्साकार्मिकों, मरीजों को सताता है। वहीं बरसात में जर्जर भवन के चहुंओर से पानी टपकने पर कामकाज व उपचार को लेकर भी इन्हें अधिक परेशानी उठानी पड़ती है। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के भवन की मरम्मत, जीर्णोंद्धार नहीं करवाने से ग्रामीणों में रोष है।

तहसील समदड़ी की बड़ी ग्राम पंचायत अजीत में प्रदेश सरकार ने वर्ष1996-97 में पीएचसीकी का निर्माण करवाया था। आज तक करीब 22 वर्ष बीत चुके हैं। इस दौरान चिकित्सा व स्वास्थ्य विभाग ने इसकी मरम्मत एक-दो बार मरम्मत करवाई, लेकिन वह भी मात्र औपचारिकता भर। एेसे में यह भवन अब जर्जर हालात में पहुंच चुका है। आरसीसीस के सरिये फूलने पर स्थान छोड़ दिया है। प्लास्टर फूल गया है। कई जगहों से यह टूट करगिर गया है।
चिकित्साकर्मी व मरीज रहते चिंतित- पूरे चिकित्सालय में यह स्थिति होने पर उखड़े प्लास्टर के गिरने को लेकर कामकाम व उपचार के दौरान कार्मिक, मरीज डरे सहमे रहते हैं। जर्जरहाल भवन पर सामान्य वर्षा पर भी पानी टपकता है। छतों से पानी टपकने व भवन के फर्श पर इसके जमा होने पर कामकाज,उपचार को लेकर कार्मिकों, मरीजों को परेशानी उठानी पड़ती है। छत टपकने से चिकित्सालय का सामान भी खराब होता है। इस पर ग्रामीण कई वर्षों से विभाग से इसकी मरम्मत, जीर्णोद्वार करवाने की मांग कर रहे हैं।

विभाग शीघ्र मरम्मत करवाएं- कई दशक पुराना चिकित्सालय भवन जर्जर हाल है। इसकी छतों का प्लास्टर उखडऩे के साथ वर्षा के दौरान पानी टपकता है। इससे कार्मिकों, मरीजों को परेशानी उठानी पड़ती है। विभाग शीघ्र मरम्मत करवाएं। - कपिल श्रीमाली
हादसे का रहता डर- अजीत पीएचसी में आसपास गांवों से उपचार के लिए हर दिन बड़ी संख्या में मरीज पहुंचते हैं। खस्ताहाल भवन पर किसी दिन हादसा हो सकता है। विभाग शीघ्र मरम्मत करवाएं। - वगतावरसिंह राजपुरोहित