स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जहां टिड्डियां बैठी वहां अब रैंग रहा फाका

Mahendra Trivedi

Publish: Oct 21, 2019 22:36 PM | Updated: Oct 21, 2019 22:36 PM

Barmer

- जिन खेतों में पहुंची थी टिड्डियां वहां अब लाखों की संख्या में रैंग रहा फाका

गडरारोड. तहसील क्षेत्र के कई गांवों में पाकिस्तान से आ रही टिड्डियां किसानों की फसलों को नुुकसान पहुंचा रही हैं। कुछ समय पूर्व जिन खेतों में टिडि़्डयां बैठी उस स्थान से अब बड़ी संख्या में फाका बाहर निकाल रहा है।

लोकस्ट विभाग की टीमों की ओर से खेतों में कीटनाशक छिड़काव नहीं किया जा रहा है। किसान टिड्डियों को हटाने के लिए कई प्रयास कर रहे हैं, लेकिन सफलता नहीं मिल रही।

रतरेड़ी कला के राजस्व गांव जीणे की बस्ती निवासी पांचराज वणल बताते हैं कि उनके गांव के ऐसे कई खेत हैं, जहां लाखों की संख्या में फाका रैंगते नजर आ रहा है।

लोकस्ट विभाग की टीम अब भी खेतों में छिड़काव नहीं कर रही है। किसान व टीम टिड्डियों के खेतों से बाहर आने का इंतजार कर रहे हैं।

ये भी पढ़े...
गाय अर्थतंत्र की आधारशिला

-सुमेर गोशाला की 123वीं वर्ष गांठ मनाई

बाड़मेर. भारत की समृद्धि सर्वजीव हितकारी गोवंश आधारित कृषि है। भारत की इस धन्य धरा पर एक भी बूचडख़ाना नहीं हो व गाय माता इधर-उधर भटकती नहीं हो तो पुन: विश्वगुरु बन जाए। गाय माता हमारी समृद्धि की नींव व अर्थतंत्र की आधारशिला हैं।

साध्वी डॉ. देवरक्षिता ने श्री सुमेर गोशाला बाड़मेर के 123वीं वर्षगांठ पर आयोजित लोकार्पण एवं सुमेर गो महिमा स्मारिका के विमोचन पर उक्त उद्गार व्यक्त किए।

इस अवसर पर विरागमुनि ने कहा कि जीव दया से जीव को भवान्तर में निरोगी सुन्दर शरीर, लम्बा आयुष्य प्राप्त होतस है। मुख्य अतिथि विधायक मेवाराम जैन ने कहा कि गोशाला में गोवंश के संरक्षण-संवर्धन नि:स्वार्थ भाव से किए जा रहे कार्य अनुकरणीय हैं।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए महंत रघुनाथ भारती ने कहा कि वर्तमान समय में गोवंश की हालत बहुत चिंताजनक हैं। इसके लिए चिन्तन करने की आवश्यकता है।

कार्यक्रम को विशिष्ठ अतिथि गोपाल गोशाला अध्यक्ष शंकरलाल पड़ाईया, डॉ. नारायणसिंह सोलंकी ने सम्बोधित किया। श्री सुमेर गोशाला अध्यक्ष जेठमल जैन ने स्वागत किया। सहयोगकर्ताओं का सम्मान हुआ। संचालन किशनलाल वडेरा व डॉ. प्रदीप पगारिया ने किया।

ये रहे मौजूद

इस मौके पर बाबूलाल वडेरा, काशीराम भूतड़ा, किशन गोपाल तापडिय़ा, कानमल मोदी, मूलाराम माली, पवन कुमार वडेरा, प्रकाश बोहरा, दिनेश लूणिया, वीरचन्द सिंघवी, रतनलाल बोहरा, मदनलाल सिंगल, लूम्बाराम माली, श्रवण कुमार माहेश्वरी, लता कच्छवाह, मोहनलाल धारीवाल, हनुमान चौधरी, मुकेश जैन आदि मौजूद रहे।