स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अस्पताल और कलक्ट्रेट परिसर को बना लिया शॉर्टकट रास्ता, दिनभर सरपट दौड़ रहे वाहन

Mahendra Trivedi

Publish: Sep 16, 2019 21:35 PM | Updated: Sep 16, 2019 21:35 PM

Barmer

ऐसे बना लिया आम रास्ता

कलक्ट्रेट: मुख्य गेट से दूसरे गेट से वाहनों की आवाजाही

राजकीय अस्पताल: बाल मंदिर स्कूल के पास से सीएमएचओ कार्यालय होते हुए रॉय कॉलोनी रोड

-सुबह से शाम तक सैकड़ों वाहनों की आवाजाही

-जिम्मेदारों के नाक के नीचे अव्यवस्थाएं हावी

बाड़मेर. शहर का राजकीय चिकित्सालय व कलक्ट्रेट दोनों ही आम रास्ते बन गए हैं। सुबह से शाम तक यहां से सैकड़ों वाहनों की आवाजाही लगी रहती है। लेकिन इनको रोकने वाला कोई नहीं। यहां से निलकने वाले वाहन इमरजेंसी में आने वाले मरीजों के लिए खतरा बन गए हैं।

वहीं कलक्ट्रेट परिसर से होकर निकलने वाले वाहन लोगों के लिए दुर्घटना की आशंका को बढ़ा रहे हैं। कलक्ट्रेट में पूरे दिन लोगों की आवाजाही रहती है। ऐसे में यहां सरपट दौड़ते वाहन किसी खतरे से कम नहीं हैं। शार्टकट के चक्कर में अस्पताल और कलक्ट्रेट परिसर से वाहनों की आवाजाही बदस्तूर जारी है। ऐसे में दोनों मुख्य स्थान आम रास्ता बन गए है।

अस्पताल से होकर निकल रही बालवाहिनियां

अधिकांश बालवाहिनियां बाल मंदिर स्कूल के पास से होते हुए अस्पताल के आपातकालीन वार्ड, सीएमएचओ कार्यालय से सीधे राय कॉलोनी रोड पर निकल रही है। ऐसे में जहां बच्चों को खतरा बढ़ा है। वहीं अस्पताल में आने वाले मरीजों के लिए परेशानी बढ़ गई है। सुबह व स्कूल की छुट्टी के समय तो यहां पर आम रास्ते की तरह बालवाहिनियों की कतारें लग रहती है।

कलक्ट्रेट भी बन गया आम रास्ता

जैसलमेर रोड की तरफ से आने वाले वाहन रॉय कॉलोनी व इंदिरा कॉलोनी की तरफ जाने के लिए कलक्ट्रेट के मुख्य द्वार से भीतर से होकर रास्ते का उपयोग कर रहे हैं। इसमें दुपहिया और चार पहिया वाहन शािमल है। इसी तरह कलक्ट्रेट के दूसरे गेट से होकर मुख्य द्वार से वाहनों की आवाजाही पूरे दिन चलती है।

बेखबर यातायात पुलिस

प्रमुख स्थानों पर जहां पर लोगों की आवाजाही अधिक रहती है, वहां पर सरपट दौड़ते वाहनों के कारण आमजन को खतरा बढ़ गया है। सड़क होने पर तो लोग सावधानी से देखकर चलते हैं। लेकिन कलक्ट्रेट व अस्पताल परिसर से दौड़ते वाहनों से बेखबर मरीज और आमजन कभी भी दुर्घटना का शिकार हो सकते हैं। यातायात पुलिस भी इसे लेकर बेखबर ही नजर आ रही है।