स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पालकी में विराजे ठाकुरजी, निकली रेवाड़ी

Mahendra Trivedi

Publish: Sep 10, 2019 18:21 PM | Updated: Sep 10, 2019 19:37 PM

Barmer

जिले भर में मंगलवार को जलझूलनी एकादशी पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। शहर के विभिन्न मंदिरों से ठाकुरजी की रेवाड़ी निकाली गई।

बाड़मेर. जिले भर में मंगलवार को जलझूलनी एकादशी पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। शहर के विभिन्न मंदिरों से ठाकुरजी की रेवाड़ी निकाली गई। इसमें कृष्ण भगवान की प्रतिमा को गाजे बाजे के साथ वेणासर नाडी में स्नान करवा पूजा, अर्चना की गई।

शहर में कई स्थानों पर रेवाडिय़ों पर पुष्पवर्षा की गई। महिलाओं ने मंगल गीत गाए। रेवाड़ी निकालते समय हाथी घोड़ा पालकी, जय कन्हैयालाल के जैकारे लगे।

यहां से निकली रेवाडिय़ां

शहर के राधाकृष्ण कृष्ण मंदिर, बेरियों का बास, ढाट माहेश्वरी राधाकृष्ण मंदिर, मुकंद मंदिर, सत्यनारायण मंदिर, हनुमान मंदिर, चारभुजा मंदिर सहित कई मंदिरों से भगवान की रेवाड़ी निकली। श्रद्धालुओं ने पालकियों के नीचे से निकलने की रस्म निभाई।

देव झूलनी एकादशी पर रेवाड़ी निकाली

बायतु. पुराना गांव स्थित ठाकुरजी के मंदिर से देवझूलनी एकादशी पर सोमवार को रेवाड़ी निकली गई।मंदिर मुख्य पुजारी बद्रीप्रसाद गौड़ ने बताया कि देवझूलनी एकादशी पर भगवान की रेवाड़ी मंदिर से गांव की नाडी तक निकाली गई। भगवान की मूर्तियों को नहलाकर पुन: प्रतिष्ठित किया। गायक कलाकारों ने भजनों की प्रस्तुतियां दी।

बालोतरा. नगर, क्षेत्र में सोमवार को देवझूलनी एकादशी पर्व श्रद्धापूर्वक मनाया गया। दोपहर बाद मंदिरों से गाजे-बाजे से रेवाडिय़ां रवाना हुई। रेवाडिय़ों को सजा-धजा कर आकर्षक तैयार किया।

इसके बाद इसमें ठाकुरजी की प्रतिमाओंं को विराजित किया। जयकारे लगाते व भजन गाते हुए श्रद्धालु रवाना हुए। बालोतरा के लूणों का चौक रघुनाथ मंदिर से सर्वप्रथम रेवाड़ी रवाना हुई।

इसके बाद रघुनाथ मंदिर, महालक्ष्मीजी मंदिर, लालजी का मंदिर, सत्यनारायण मंदिर, सैनजी महाराज मंदिर, वनु माता मंदिर, मुख्य हनुमान मंदिर, पालीवाल समाज रघुनाथजी मंदिर, वनखंडी महादेव मंदिर, रामदेव मंदिर रामदरबार, मोहनरायजी मंदिर, जानरायजी मंदिर आदि मंदिरों से रेवाडि़यां रवाना हुई।