स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नंदी गोशाला: भाजपा ने कहा -200 गोवंश की मौत, सभापति बोले 40-50 की मृत्यु

bhawani singh

Publish: Dec 06, 2019 12:16 PM | Updated: Dec 06, 2019 12:16 PM

Barmer

-भाजपा ने विधायक और सभापति को घेरा, उपखंड अधिकारी व पुलिस पहुंची मौके पर, आरोप: पशुओं को नहीं मिल रहा चारा-पानी

 

बाड़मेर.प्रदेश की पहली नंदी गोशाला में गायों की मौत को लेकर कांग्रेस-भाजपा आमने सामने हो गए हैं। भाजपा ने विधायक और सभापति को घेरते हुए गायों की मौत की जिम्मेदारी तय करने और अव्यवस्थाओं के जवाबदारों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की मांग की है। यूआईटी की पूर्व चेयरपर्सन प्रियंका चौधरी ने विधायक से जवाब मांगा है कि वे बताएं कि उनके ड्रीम प्रोजेक्ट में कहां पोल रही और इसको लेकर अब कौन जवाबदेह होगा? इधर सभापति दिलीप माली ने 40-50 गायों की मौत बताते हुए कहा कि व्यवस्थाओं में कमी नहीं थी, मौत का कारण जांच में सामने आएगा। विधायक मेवाराम बोले कि व्यवस्थाएं सब सही थी। चारे-पानी व चिकित्सा की कमी नहीं थी।

भाजपा कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन
भाजपा कार्यकर्ताओं ने गुरुवार दोपहर नंदी गोशाला में प्रदर्शन किया। इस दौरान गोशाला की व्यवस्थाओं को लेकर नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि प्रशासन व नगर परिषद की लापरवाही के चलते गायों की लगातार मौत हो रही है। इस दौरान भाजपा जिला महामंत्री कैलाश कोटडिय़ा, अमृतलाल जैन, लक्ष्मण जीनगर, बांकाराम, रमेशसिंह इंदा, नरपतसिंह, विक्रमसिंह, कैलाश आचार्य, हरीश सोनी, पृथ्वी चांडक, चंदा फुलवारिया कार्यकर्ताओं ने नगर परिषद सभापति, नगर परिषद व प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की।

मामला बढ़ा तो पहुंचा प्रशासन
मामला बढ़ते देख उपखंड अधिकारी नीरज मिश्र व पुलिस जाब्ता मौके पर पहुंचा। इसके बाद उपखंड अधिकारी को भाजपा कार्यकर्ताओं ने खरी-खरी सुनाते कहा कि मामले का खुलासा होने के बावजूद लीपापोती की जा रही है। किसी के दबाव में आने की जरूरत नहीं है। जो है उसका खुलासा किया जाए। उपखण्ड अधिकारी ने निष्पक्ष जांच का आश्वासन दिया। भाजपा कार्यकर्ताओं ने समय पर हरा चारा नहीं आने और चारा घटिया होने का भी आरोप लगाया।

मृत पशु पर जेसीबी चलाने से गुस्साए
गोशाला के पीछे मृत पशु दफ नाए जा रहे हैं। उस पर जेसीबी चलाने का आरोप लगाते हुए उपखंड अधिकारी को मौका स्थल दिखाया गया। उन्होंने कहा कि कार्मिकों की लापरवाही के चलते मृत बछड़े पर जेसीबी चलाई गई है। ऐसा दृश्य देखकर आमजन में आक्रोश है।

जोधपुर से पहुंची टीम
मामले को लेकर जोधपुर से टीम पहुंची है। यहां की टीम ने बताया कि यहां ओलावृष्टि के बाद निमोनिया हुआ था। मृत पशुओं में भी निमोनिया के लक्षण पाए गए हैं। इसकी विस्तृत जांच की जाएगी। अभी चारे-पानी का इंतजाम पर्याप्त मिला है। मृत पशुओं के शरीर के अन्य अंगों की जांच के लिए सैम्पल भेजे गए हैं, उनकी रिपोर्ट एक दो दिन में आ जाएगी। - डॉ. विपिन गुप्ता, विशेषज्ञ, जोधपुर चिकित्सक टीम


40-50 मरे हैं, पॉलीथिन वजह- सभापति
गोशाला में चारा, पानी व छाया की उत्तम व्यवस्था है। बीमार पशुओं का इलाज करवाया जा रहा है। लगभग 40-50 पशुओं की मौत पॉलीथिन से हुई है। कुछ लोगों की नौटंकी करने की आदत है , वह हंगामा कर रहे हैं। गोशाला में अच्छी व्यवस्थाएं है।- दिलीप माली, सभापति नगर परिषद बाड़मेर

एक बार सच बोले विधायक
वास्तव में गोवंश को रेत में दफनाया गया तथा ऊपर जेसीबी चलाई गई। गोवंश की मौत पर राजनीति ना हो बल्कि समुचित इलाज होना चाहिए। उन्हें खाने के लिए हरा चारा मिले पानी की व्यवस्था हो। उन्होंने कहा कि बाड़मेर विधायक को एक बार सच बोल कर तो देखना चाहिए।-दिलीप पालीवाल, भाजपा जिलाध्यक्ष

लापरवाही से मर रहे पशु
नगर परिषद के पास पशुओं के लिए नाम मात्र की व्यवस्था नहीं है। भूख के कारण पशु मर रहे हैं। जिम्मेदारों की लापरवाही के चलते लगभग 200 पशुओं की मौत हुई है। जनता जबाव मांगेगी।- कैलाश कोटडिय़ा, भाजपा महामंत्री

[MORE_ADVERTISE1]