स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मिड-डे-मील, दूध व कुक-कम हेल्पर का बजट शिक्षा विभाग के खाते में जमा, स्कूलों को देने में आनाकानी

Moola Ram Choudhary

Publish: Aug 22, 2019 14:35 PM | Updated: Aug 22, 2019 14:35 PM

Barmer

-बिना बजट के शिक्षक कैसे चुकाएं उधारी

बाड़मेर. जिले में सरकारी विद्यालयों में मिड-डे-मील, अन्नपूर्णा दूध योजना व कुक-कम हेल्पर का लगभग 22 करोड़ का बजट शिक्षा विभाग के पास जुलाई में जमा हो गया। लेकिन विभागीय शिथिलता के चलते स्कूलों के खातों में राशि जमा नहीं हुई है। बजट आने के बाद भी शिक्षकों पर उधारी का भार बढ़ता जा रहा है। बिना बजट के योजनाओं का संचालन करना मुश्किल हो गया है। बजट का इंतजार शिक्षकों को पिछले छह माह से है।

जुलाई में विभाग को मानदेय का बजट मिला जो जिलेभर के विद्यालयों के खातों में जमा करवाना था। विभाग की ढिलाई के चलते बजट जमा नहीं हुआ। ऐसे में कुककम हेल्पर का घर चलाना मुश्किल हो गया। साथ ही शिक्षकों पर भी उधारी बढ़ गई। शिक्षकों की ओर से मांग करने के बाद भी विभाग के अधिकारी अनदेखी कर रहे हैं।

परेशानी झेल रहे हैं

बिना बजट के शिक्षकों व कुककम हेल्पर को परेशानी झेलनी पड़ रही है। विभाग के पास बजट भी आया हुआ तो जल्दी से स्कूलों के खातों में जमा करवाना चाहिए।
बांकाराम साजंटा, जिलाध्यक्ष, राजस्थान पंचायतीराज कर्मचारी शिक्षक संघ

शीघ्र जमा हो जाएगा

विद्यालयों में मिड-डे-मील का बजट शीघ्र जमा हो जाएगा। बिल बनाकर भेज दिए हैं।
राजेश्वरी चौधरी, अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी प्रारम्भिक शिक्षा