स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अकीदत से मनाया मोहर्रम, उमड़े मोमीन, युवाओं ने दिखाए करतब

bhawani singh

Publish: Sep 11, 2019 12:27 PM | Updated: Sep 11, 2019 12:27 PM

Barmer

- शहर में निकला ताजिया, शौहदाए कर्बला कार्यक्रम का आयोजन

 

बाड़मेर. शहर में मोहर्रम मंगलवार अकीदत के साथ मनाया गया। इस मौके पर अकीदतमंदों ने ताजिया निकाला। इस दौरान ढोल ताशों के साथ अखाड़ों का प्रदर्शन हुआ। शहर के मीनू स्ट्रीट, गांधी चौक, बावड़ी सब्जी मंडी, पनघट रोड, तनसिंह सर्किल, सरदारपुरा से होते हुए ताजिया गेहूं रोड स्थित कर्बला के मैदान पहुंचा।


बुराइयों से रहें दूर

मुस्लिम युवा कमेटी व मुस्लिम इंतेजामिया कमेटी की ओर से मोहर्रम पर गेहूं स्थित ईदगाह मैदान में जलसा ए यादे शौहदाए कर्बला कार्यक्रम का आयोजन हुआ। मुख्य अतिथि तहरीके उल्माए हिंद जयपुर से आए चैयरमैन मुफ्ती खालिद अय्यूब मिस्बाही ने कहा कि इमाम हुसैन से सारी दुनिया मोहब्बत करती है। कार्यक्रम में बीकानेर के पीर सैय्यद मकबूल हसन कादरी ने बुराइयों से दूर रहने की बात कही। मुस्लिम इंतेजामिया कमेटी के सदर हाजी अब्दुल गनी खिलजी, मौलाना मुख्तार अशफाकी, मौलाना मठार सिद्धिकी, मौलाना निहालुदीन, कारी निजामुद्दीन, मौलाना दाऊद, मौलाना हाफिज मुनव्वर, कारी रहमतुल्लाह आदि ने विचार व्यक्त किए। मुस्लिम युवा कमेटी के सदर अबरार मोहम्मद आभार जताया।

विकास कार्यों का लोकार्पण
कार्यक्रम के दौरान नगर परिषद सभापति लूणकरण बोथरा ने ईदगाह में विकास कार्य का लोकार्पण किया। उन्होंने स्वच्छ भारत अभियान के तहत शौचालय व ईदगाह के आगे सड़क मार्ग बनाने की घोषणा की। कार्यक्रम कमेटी के संयुक्त सचिव शौकत शेख, खजांची बच्चु खां कुम्हार, शाह मोहम्मद सिपाही, नायाब सदर अलीशेर तेली, सचिव इमरान खान गौरी, खजांची अजहरूदीन, रहीम खां मिस्त्री, शाह मोहम्मद कोटवाल, मुख्तियार नियारगर, इनायत भाई नोहड़ी, इकबाल मोहम्मद, मास्टर मोहम्मद, हाजी दीन मोहम्मद, हाजी गुलामनब्बी तेली, हाजी सफी मोहम्मद गौरी, युसुफ खान हालोपोतरा, हाजी जमाल खां कोटवाल आदि उपस्थित रहे।

कस्बे व गांवों में कार्यक्रम
बालोतरा.शहर व क्षेत्र में मंगलवार को मोहर्रम का मातमी पर्व पारम्परिक रूप से मनाया गया। इस दिन बालोतरा, सिवाना, समदड़ी, पाटोदी कई स्थानों पर निकाले गए ताजिए में बड़ी संख्या में मुस्लिम समाज के लोग शामिल हुए। अखाड़ा बाजों ने हैरत अंगेज कारनामे दिखाए।