स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कांवड़ यात्रा को देखते हुए सुरक्षा बढ़ी, पुलिस ने बनाया ये प्लान

jitendra verma

Publish: Jul 19, 2019 18:09 PM | Updated: Jul 19, 2019 18:09 PM

Bareilly

बरेली में कांवड़ यात्रा के दौरान कई बार बवाल हो चुका है जिसको देखते हुए इस बार पुलिस और प्रशासन के अफसरों ने व्यापक तैयारी की है।

बरेली। कांवड़ यात्रा के साथ ही पुलिस और प्रशासन की अग्नि परीक्षा भी शुरू हो जाएगी। बरेली में कांवड़ यात्रा के दौरान कई बार बवाल हो चुका है जिसको देखते हुए इस बार पुलिस और प्रशासन के अफसरों ने व्यापक तैयारी की है।एसएसपी के निर्देश पर पुलिस ने पीस कमेटी की बैठकें की हैं। कांवड़ियों की सेवा के लिए पुलिस ने 1336 लोगों को वालंटियर बनाया है। रास्तों में लगने वाले भंडारों और कांवड़ियों के पड़ाव पर पुलिस का पहरा रहेगा इसके साथ ही कांवड़ियों के रूट पर भी पुलिस बल की तैनाती की गई है। मंदिरों में जहां भी जलाभिषेक होगा वहां पर भारी संख्या में पुलिस फोर्स की तैनाती रहेगी।

ये भी पढ़ें

sawan 2019: जानिए बरेली को क्यों कहते हैं नाथ नगरी

Police made new plan for Kanvar yatra

पुलिस ने पहले ही की कार्रवाई

कांवड़ में कहीं कोई बवाल न होने इसके लिए पुलिस ने जिले भर में पांच हजार लोगों को रेड कार्ड जारी किया है। अगर बवाल होता है तो इन पर कार्रवाई की जाएगी। इसके साथ ही पुलिस ने 188 लोगों पर गुंडा एक्ट की कार्रवाई की है। 4221 लोगों पर 107/116 की कार्रवाई भी की है। इतना ही नहीं पुलिस ने 144 लोगों का धारा 110 जी के अंतर्गत चालान भी किया है। 150 व्यक्तियों को साम्प्रदायिक एवं असमाजिक तत्व के रूप में चिन्हित कर उनके विरुद्ध कार्रवाई की है।

ये भी पढ़ें

सावन के पहले ही भोले के रंग में रंगी नाथ नगरी बरेली - देखें तस्वीरें

Police made new plan for Kanvar yatra

यहां पर हुआ था विवाद

पिछली बार कांवड़ यात्रा के दौरान कई जगहों पर विवाद हुआ था। अलीगंज के खेलम गांव में विरोध को देखते हुए कांवड़ियों को पुलिस और पीएसी के पहरे में निकाला गया था। इज्जतनगर के भगवानपुर धीमरी गांव में भी जलाभिषेक को लेकर जमकर हंगामा हुआ था।काशी धर्मपुर गांव में भी विवाद हुआ था। पिछले साल उमरिया खजुरिया गांव में भी जमकर बवाल हुआ था और पुलिस को विधायक पप्पू भरतौल को नजरबंद करना पड़ा था।