स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

youth dies in police custody--पुलिस छावनी क्यों बन गया मांगरोल, तनाव बरकरार, परिजनों ने नहीं लिया शव

Shiv Bhan Singh

Publish: Sep 06, 2019 17:30 PM | Updated: Sep 06, 2019 17:30 PM

Baran

पुलिस छावनी क्यों बन गया मांगरोल, तनाव बरकरार, परिजनों ने नहीं लिया शव भाजपा नेताओं ने धरना किया शुरू पुलिस पर मारपीट कर युवक को मारने का आरोप बारां.(मांगरोल) पुलिस हिरासत में रावल-जावर निवासी युवक की मौत के मामले को लेकर दूसरे दिन शुक्रवार को मांगरोल व रावल-जावल गांव में तनाव बना रहा। परिजनों के शव लेने इनकार के बाद मांगरोल कस्बे में चप्पे -चप्पे पर पुलिस तैनात कर दी गई है। इस बीच जिला पुलिस अधीक्षक के.एल. मीणा ने कार्यवाहक थाना प्रभारी चंद्रभान सिंह, मामले के जांच अधिकारी हैड़ कांस्टेबल प्रदीप

पुलिस छावनी क्यों बन गया मांगरोल, तनाव बरकरार, परिजनों ने नहीं लिया शव
भाजपा नेताओं ने धरना किया शुरू
पुलिस पर मारपीट कर युवक को मारने का आरोप
बारां.(मांगरोल) पुलिस हिरासत में रावल-जावर निवासी युवक की मौत के मामले को लेकर दूसरे दिन शुक्रवार को मांगरोल व रावल-जावल गांव में तनाव बना रहा। परिजनों के शव लेने इनकार के बाद मांगरोल कस्बे में चप्पे -चप्पे पर पुलिस तैनात कर दी गई है। इस बीच जिला पुलिस अधीक्षक के.एल. मीणा ने कार्यवाहक थाना प्रभारी चंद्रभान सिंह, मामले के जांच अधिकारी हैड़ कांस्टेबल प्रदीप, समेत तीन जनों को निलंबित कर पूरे थाने को लाइन हाजिर कर दिया है। इस बीच मौके पर भाजपा नेता मदन दिलावर के नेतृत्व में लगभग दो हजार लोग धरने पर बैठ गए हैं। इधर भाजपा नेताओं सहित परिजनों ने इस मामले में पुलिस कर्मियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज करने, एसआईटी से जांच कराने व २५ लाख का मुआवजा देने की मांग की है। इससे पहले शुक्रवार को पुलिस ने परिजनों को शव लेने के लिए मनाया लेकिन परिजन नहीं माने। रामगंजमंडी के विधायक मदन दिलावर के पहुंचने की सूचना के साथ थाने के बाहर सैकड़ों लोग इकट्ठा हो गए। उनके साथ कोटा के विधायक संदीप शर्मा ,पूर्व पशुपालन मंत्री प्रभूलाल सैनी, प्रदेश भाजपा मंत्री वीरप्पा , छगन माहुर, भाजपा नेता प्रेमनारायण गालव , पूर्व विधायक हेमराज मीणा, जिला प्रमुख नंदलाल सुमन, प्रशांत विजय, चंद्रप्रकाश विजय ,भाजपा जिलाध्यक्ष राजेंद्र नागर,
समेत कई नेता रावलजावल पहुंचे और मृतक के परिजनों से मिले। परिजनों ने दोषी पुलिसकर्मियों को बर्खास्त करने, 25 लाख मुआवजा देने, दोषी पुलिस कर्मियों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज
करने की मांग की । रावलजावल से लौटने के बाद बंद कमरे में चारों विधायकों ने व्यूह रचना बनाई ओर थाने के बाहर टैंट लगाकर धरना शुरू कर दिया। ज्यों ही सभी नेताओं के थाने पहुंचने की सूचना मिली लगभग दो हजार लोग एकत्र हो गए व नारेबाजी करने लगे । पूर्व विधायक हेमराज मीणा ने इस मामले में कांग्रेस पर पुलिस को बचाने की भूमिका निभाने का आरोप लगाया। धरना स्थल पर बरसात शुरू होने के बावजूद लोग बैठे रहे।
—चप्पे -चप्पे पर पुलिसस
कस्बे में चप्पे -चप्पे पर पुलिस बल तैनात किया गया है। धरना स्थल पर भी भारी संख्या में पुलिस बल तैनात है। लोग जगह जगह जाम लगा रहे हैं। मौके पर प्रशासन के कई एसडीओ ,थानाधिकारी ,एडिशनल एस पी मौके तैनात हैं। जिला कलक्टर व एसपी भी मांगरोल के लिए रवाना हो गए हैं।

विरोध के नारे लगते रहे
धरना स्थल पर लोगों को मदन दिलावर सहित भाजपा के कई नेताओं ने सम्बोधित किया। इस दौरान वर्तमान सरकार और पुलिस के खिलाफ रह-रह कर लोग नारेबाजी करते रहे। विधायक मदन दिलावर, संदीप शर्मा , पूर्व मंत्री सैनी व हीरालाल नागर ने पुलिस पर युवक से मारपीट करने के कारण मौत होने का आरोप लगाया।

तीन पुलिस कार्मिक निलंबित
इस बीच पुलिस ने थानाधिकारी, जांच अधिकारी सहित तीन पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया है। वहीं पूरे थाने के २५ पुलिस कर्मियों को लाइन हाजिर कर दिया।

शव अब भी बारां मोर्चरी में
मृतक युवक का शव अब भी बारां स्थित मोर्चरी मेंं रखा है। शव को गुरूवार रात रावल-जावल गांव ले जाया गया था लेकिन परिजनों के शव लेने से इनकार के बाद इसे वापस बारां लाकर डीप फ्जिर में रखवा दिया था। तब से शव पुलिस के कब्जे में ही है।
यह है मामला
मांगरोल थाना क्षेत्र के रावल जावल गांव निवासी गिरीराज माली (२०) के खिलाफ एक विवाहिता को भगा कर ले जाने का मामला विवाहिता के पति दर्ज कराया था। तीन दिन पहले यह युगल गांव आया तो इस युगल को पुलिस पकड़ कर थाने ले आई। इस दौरान युवक गिरीराज में जहरीला पदार्थ खा लिया। इससे पुलिस अभिरक्षा में ही उसकी मौत हो गई।