स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Youth dies in police custody- प्रेमी युगल रात 12 बजे तक थाने में क्या कर रहा था? विवाहिता के बारे में भी पुलिस अधिकारी मौन

Shiv Bhan Singh

Publish: Sep 05, 2019 18:49 PM | Updated: Sep 05, 2019 18:49 PM

Baran

युवक की पुलिस हिरासत में मौत, पुलिस पर उठ रही अंगुलियां
-पुलिस ने कहा, दोपहर में खुद थाने आया था युगल
-चिकित्सक ने कहा, मृतक के पास थी सल्फॉस
मांगरोल. थाना क्षेत्र के रावल-जावल निवासी गिरिराज माली (20) की संदिग्ध परिस्थितियों में पुलिस अभिरक्षा में बुधवार की रात मौत हो गई। स्थानीय पुलिस इस मामले में फिलहाल चुप्पी साधे हुए है।

युवक की पुलिस हिरासत में मौत, पुलिस पर उठ रही अंगुलियां
-पुलिस ने कहा, दोपहर में खुद थाने आया था युगल
-चिकित्सक ने कहा, मृतक के पास थी सल्फॉस
मांगरोल. थाना क्षेत्र के रावल-जावल निवासी गिरिराज माली (20) की संदिग्ध परिस्थितियों में पुलिस अभिरक्षा में बुधवार की रात मौत हो गई। स्थानीय पुलिस इस मामले में फिलहाल चुप्पी साधे हुए है। गुरुवार को सुबह जैसे ही यह खबर गांव रावल-जावल पहुंची तो वहां से बड़ी संख्या में ग्रामीण मांगरोल पहुंच गए तथा उन्होंने थाने का घेराव कर दिया। इसके बाद यहां अतिरिक्त पुलिस जाप्ता तैनात किया गया है। शाम करीब सवा चार बजे कोटा रेंज के पुलिस महानिरीक्षक विपिन पांडे भी बारां जिला चिकित्सालय पहुंच गए थे।
रावल-जावल निवासी मांगरोल की निवासी व रावल-जावल की बहू दो बच्चों की मां को गिरिराज माली 15 दिन पहले भगाकर ले गया था। तब १९ अगस्त को थाने में विवाहिता के पति ने गुमशुदगी दर्ज कराई। दो दिन पहले यह प्रेमी युगल गांव आए थे। पुलिस जानकारी मिलने पर बुधवार दोपहर में उन्हें थाने लाई थी। इसी दौरान गिरिराज ने उसके पास रखी सल्फॉस की गोलियां खाली। पुलिस ने उसे रात १२ बजे बाद स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में भर्ती कराया गया। जहां डॉ. सोभागमल मीणा ने उसकी हालात गंभी होने से उपचार के लिए रात करीब सवा बारह बजे बारां रैफर कर दिया था। डॉ. मीणा ने गुरुवार सुबह पत्रिका को बताया कि मृतक युवक ने विषाक्त खाया था। उसके पास सल्फॉस तीन गोलियां और भी थी। पुलिस ही उसे अस्पताल लाई थी।
गांव से पुलिस लेकर गई थी
मृतक गिरिराज की चाची धापू बाई का कहना है कि पुलिस उसके भतीजे व विवाहिता को बुधवार दोपहर लगभग साढ़े बारह बजे गांव से पुलिस जीप में मांगरोल थाने ले गई थी। इसके बाद गुरुवार तड़के उन्हें गिरिराज की मौत की सूचना मिली। दूसरी ओर गिरिराज की जिला चिकित्सालय में मौत हो गई।
थाना परिसर में ही खाया विषाक्त
इस मामले में पुलिस अधिकारी पुलिस अभिरक्षा में मौत होने से इनकार कर रहे हैं, लेकिन उनका कहना है कि मृतक ने थाना परियर में ही विषाक्त का सेवन किया था। वहीं मृतक को रात १२ बजे मांगरोल के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में पुलिस द्वारा ही ले जाना कई सवाल खड़े कर रहा है। पुलिस यह भी स्पष्ट नहीं कर पाई यह प्रेमी युगल रात १२ बजे तक थाने में क्या कर रहा था? देर शाम तक मृतक के साथ भागी विवाहिता के बारे में भी पुलिस अधिकारी कुछ भी जानकारी देने से बचते रहे।
-प्रेमी युगल दोपहर में खुद ही थाने में पहुंचा था। जहां थाना परिसर में युवक ने विषाक्त खा लिया। रात को उसकी तबीयत बिगडऩे पर उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मांगरोल ले जाया गया। चिकित्सक ने उसे उपचार के लिए बारां रैफर कर दिया। शव का मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम कराया गया है। मामले की गहनता से जांच की जाएगी।
-विजय स्वर्णकार, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बारां