स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जोरदार बारिश से पार्वती और परवन नदी उफनी, पुलियाओं के टूटनें से लोगों की बढ़ी परेशानी

Dinesh Saini

Publish: Sep 11, 2019 13:22 PM | Updated: Sep 11, 2019 13:23 PM

Baran

Heavy Rain in Baran: पूर्वी राजस्थान में बारां जिले और मध्यप्रदेश में हो रही बरसात ( Heavy Rain in Rajasthan ) के कारण नदी नालें उफान पर चल रहे हैं। जिसके कारण कई मार्ग एक माह से बंद पडे हुऐ है...

बारां। पूर्वी राजस्थान में बारां जिले और मध्यप्रदेश में हो रही बरसात ( Heavy Rain in Rajasthan ) के कारण नदी नालें उफान पर चल रहे हैं। जिसके कारण कई मार्ग एक माह से बंद पडे हुऐ है। पुलियाओं के टूटनें से लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। बारां जिलें में हो रही बरसात ( Heavy Rain in Baran ) लोगों के लिए परेशानी का सबब बनी हुई है। वहीं पार्वती, परवन नदीयों में चल रहे उफान के कारण मध्यप्रदेश को जोडऩे वाले कई मार्ग अवरूद्ध है। पार्वती नदी में उफान के चलते छबड़ा से गुना, फतेहगढ़ मार्ग बंद है तो वहीं छीपाबड़ौद से इकलेरा मार्ग भी परवन नदी में उफान के कारण बंद पड़ा है। अटरू क्षेत्र में कई मार्ग टापू बने हुए है। बारां से जलवाड़ा मार्ग भी पार्वती नदी में दैगनी पुलिया पर चादर चलने के कारण बंद है।

इधर मांगरोल से रामगढ़ मार्ग भी पिछलें कई दिनों से बंद पड़ा है। वहीं जैपला की पुलिया टूटी होने के कारण लोगों को भारी परेशानी हो रही है जिसके कारण पैदल तो पैदल बाइकों को भी पुलिया से निकाल कर दूसरे गांव तक जाना लोगों के लिए भारी पड़ रहा है। एक बाइक को पांच-छह लोग जान जोखिम में डालकर टूटी पुलिया से निकाल पाते है।


लबालब हुए जलाशय तो बाहर आने लगे मगरमच्छ
वहीं इधर... प्रतापगढ़ जिले में इस वर्ष अतिवृष्टि के बाद जहां एक तरफ जलाशय लबालब हो गए है। वहीं दूसरी ओर बांधों में से मगरमच्छ बाहर आने लगे है। आबादी क्षेत्र में मगरमच्छ दिखने से ग्रामीणों में भय का माहौल है। ऐसे में वन विभाग भी सावचेत हो गया है। विभाग ने ग्रामीणों को इस प्रकार की सूचना तत्काल ही विभागीय कर्मचारियों को देने की अपील की है।

वागड़ में झमाझम....
बांसवाड़ा में मंगलवार सुबह से काली घटाओं के साथ मूसलाधार बारिश हुई। करीब एक घंटा तक जम कर बारिश होने से सडक़ों में पानी भर गया। इस दौरान शहर के क्रॉकरी मार्केट की गली में घुटनों तक पानी भर गया, जिससे आवागमन कुछ देर के लिए थम गया।

एक बार फिर माही बांध खिलखिलाया
वागड़ अंचल में भाद्रपद के आखिरी में मंगलवार को बांसवाड़ा फिर से तरबतर कर गया और उदयपुर संभाग के सबसे बड़े माही बांध में पानी को जोरदार आवक के साथ सुबह में सभी सोलह गेट खोल दिए गए। इसके साथ ही बांध धवल ज्वार का यह अनुपम नजारा फिर से उठा। इस मौसम में बांध के सभी सोलह गेट पांचवीं बार खुले हैं। बांध के चार गेट एक-एक मीटर व बारह गेट आधा आधा मीटर खोले गये।