स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बांसवाड़ा में लकड़ी तस्कर सक्रिय, राजस्व भूमि से कटाई कर गीली लकड़ी ले जाते दो ट्रक और एक ट्रैक्टर पकड़े, क्रेन भी जब्त

deendayal sharma

Publish: Oct 23, 2019 12:21 PM | Updated: Oct 23, 2019 12:21 PM

Banswara

बांसवाड़ा जिले में इन दिनों लकड़ी तस्कर सक्रिय हो गए हैं। जिले से बड़ी मात्रा में पेड़ों की कटाई कर इमारती लकड़ी गुजरात भेजी जा रही है। ज्यादातर राजस्व भूमि से बगैर मंजूरी के हो रही कटाई पर अधिकारी अनभिज्ञ हैं।

बांसवाड़ा/घाटोल. बांसवाड़ा जिले में इन दिनों लकड़ी तस्कर सक्रिय हो गए हैं। जिले से बड़ी मात्रा में पेड़ों की कटाई कर इमारती लकड़ी गुजरात भेजी जा रही है। ज्यादातर राजस्व भूमि से बगैर मंजूरी के हो रही कटाई पर अधिकारी अनभिज्ञ हैं। इसकी बानगी मंगलवार और फिर बुधवार सुबह दिखलाई दी, जबकि वन विभाग के दल ने दो दिन में दो ट्रक और एक ट्रैक्टर गीली लकड़ी से लदे जब्त किए। इसके साथ ही लकड़ी भरने में इस्तेमाल की जा रही एक क्रेन भी बरामद की गई है। जिले के घाटोल क्षेत्र में बुधवार सुबह एक सूचना पर रेंजर घनश्यामसिंह सिसोदिया के नेतृत्व में टीम ने उदयपुर रोड से सटे बूढ़ा बस्सी गांव में सुबह क्रेन से आम की लकड़ी का टै्रक्टर में लदान पकड़ा। मौके से करीब पांच क्विंटल समेत ट्रैक्टर और क्रेन जब्त की गई। बताया गया कि यह लकड़ी राजस्व भूमि से बगैर अनुमति के काटी गई थी। इससे पहले घाटोल की ही टीम ने उप वन संरक्षक सुगनाराम जाट और सहायक वन संरक्षक शैदा हुसैन के निर्देशन में सेनावासा एवं खाखरिया गढ़ा गांवों में चुरेल और आम की गीली लकड़ी से भरे दो ट्रक जब्त किए। इनमें एक ट्रक में 13 टन चुरेल की लकड़ी भरी पाई गई, जबकि दूसरे में सात टन आम की लकड़ी थी। वन विभागीय दल ने मौका कार्रवाई के बाद ट्रक रेंज घाटोल कार्यालय परिसर में लाकर खड़े गए। पूछताछ से पता चला कि सेनावासा और खाखरिया गढ़ा के आसपास के गांवों से भरे गए ये ट्रक चोरी-छिपे गुजरात ले जाए जा रहे थे। क्षेत्रीय वन अधिकारी सिसोदिया ने बताया कि बिना टीपी, मंजूरी के पेड़ काटकर गुजरात ले जाए जाने पर केस बनाए गए हैं। अब ट्रकों को लेकर कंपाउंड करने प्रक्रिया उप वन संरक्षक की ओर से होगी। धरपकड़ की कार्रवाई में वनपाल रामलाल, सहायक वनपाल रमेशचंद्र, सुरेंद्रसिंह, लक्ष्मण कटारा आदि कर्मचारी शामिल थे।