स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पाइप लाइन का भंगार बेचने पर मचा बवाल, अधिकारियों पर लगाए मिलीभगत के आरोप, पुलिस ने जब्त किया माल

Varun Kumar Bhatt

Publish: Aug 21, 2019 16:15 PM | Updated: Aug 21, 2019 16:15 PM

Banswara

भंगार को सीधे बेचने का मामला, ग्रामीणों ने पुलिस को सौंपी रिपोर्ट

ठीकरीया/बांसवाड़ा. दाहोद रोड स्थित बोरवट पुल के पास एक लाइन को तोडऩे के बाद उसके भंगार को सीधे बिक्री करने के मामले को लेकर मंगलवार को ग्रामीणों ने हंगामा खड़ा कर दिया। इसकी सूचना पर मौके पर पुलिस भी पहुंच गई। हालांकि भंगार बेचने की हकीकत अभी तक स्पष्ट नहीं हुई है, लेकिन ग्रामीणों की रिपोर्ट पर पुलिस ने माल जब्त कर लिया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार इन दिनों पेयजल योजना के अन्तर्गत माही विभाग पांच नंबर कुशलगढ़ तक पानी पहुंचाने के लिए सागड़ोद चौराहा से पैकेज प्रथम पर लाइन बिछाने का कार्य किया जा रहा है। इसके चलते खुदाई के दौरान पुरानी लाइनें टूट रही हैं, जिनके भंगार को कलिंजरा व अन्य स्थानों रखा जा रहा है, लेकिन इस भंगार को कुछ लोग कलिंजरा एवं इसके आस-पास के इलाकों में ही बिक्री कर रहे हैं।

मंगलवार को जब कुछ ग्रामीणों को इसकी भनक लगी तो उन्होंने हंगामा खड़ा कर दिया और भंगार से भरे हुए वाहन को खड़ा करवा दिया। साथ ही ठेकेदार एवं अधिकारियों को मौके पर बुलाने की बात पर अड़ गए। इस पर ठेकेदार तो यह कहते हुए पीछे हट गया कि वह भंगार को गाड़ी में भरवाकर स्टॉक डलवा रहा है, जिसका उसके पास पूरा रिकॉर्ड भी है। इसके बाद ग्रामीणों ने छींच रोड से बोरवट तक की लाइन के निकले भंगार के स्टॉक के बारे में पूछा तो वह किसी भी बात का स्पष्ट जवाब नहीं दे पाया। इससे ग्रामीण और आक्रोशित हो गए।

मिलीभगत का आरोप
इस दौरान गांव के सरपंच कपिल पारगी, यशपाल कटारा, नरेश कुमार सोलंकी, मन्शु खराड़ी, लालसिंह पाटीदार, विठला डिण्डोर आदि थे, जिन्होंने ठेकेदार एवं एलएनटी अधिकारियों पर मिलीभगत के आरोप लगाए, जिसकी वजह से पूरा माल बिक्री किया जा रहा था। एलएनटी प्रोजेक्ट इंचार्ज प्रशांत शुक्ला ने मामला पीएचईडी का बताकर किनारा किया। वहीं ठेकेदार सुधीर प्रतापसिंह ने एलएनटी लाइन का वेस्ट किसी बच्चे व अन्य लोगों को नहीं लगे इसलिए उठाना बताया।