स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बांसवाड़ा : यहां ढीली रही पुलिस तो आरोपी के घर के बाहर पड़ा रहा शव, पोस्टमार्टम के 25 घंटे बाद हो पाया अंतिम संस्कार

deendayal sharma

Publish: Oct 20, 2019 11:45 AM | Updated: Oct 20, 2019 11:45 AM

Banswara

कुशलगढ़ इलाके के चंदेरी गांव में चाय की उधारी के 35 रुपए मांगने पर धमकी देने एवं शर्ट की जेब से रुपए निकालने के आरोप से आहत होकर खुदकुशी करने वाले युवक के शव का पोस्टमार्टम के करीब 25 घंटे बाद दूसरे दिन शनिवार देर शाम अंतिम संस्कार हो पाया। इससे पहले शनिवार सुबह ग्रामीणों ने मृतक का शव आरोपी के घर के मुख्यद्वार पर रख दिया।

बांसवाड़ा. कुशलगढ़ इलाके के चंदेरी गांव में चाय की उधारी के 35 रुपए मांगने पर धमकी देने एवं शर्ट की जेब से रुपए निकालने के आरोप से आहत होकर खुदकुशी करने वाले युवक के शव का पोस्टमार्टम के करीब 25 घंटे बाद दूसरे दिन शनिवार देर शाम अंतिम संस्कार हो पाया।इससे पहले शनिवार सुबह ग्रामीणों ने मृतक का शव आरोपी के घर के मुख्यद्वार पर रख दिया। पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों की समझाइश का भी कोई हल नहीं निकला।दो बजे पुलिस ने आरोपी से बात कराने का आश्वासन दिया तो ग्रामीण शव मृतक के घर ले गए, लेकिन अंतिम संस्कार नहीं किया और मौताणे की मांग पर अड़े रहे। शाम करीब छह बजे आरोपी व उसकी पत्नी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज होने, इसकी प्रति देने व समझौता होने के बाद ग्रामीण अंतिम संस्कार को राजी हुए। जानकारी के अनुसार शनिवार सुबह करीब आठ बजे ग्रामीणों ने मृतक चंदेरी निवासी राजू पुत्र रामसिंह का शव आरोपी सारेल निवासी कालू पुत्र फतिया के घर के मुख्यद्वार पर ले जाकर रख दिया। दोपहर करीब 12 बजे थाने से पुलिस जाप्ता पहुंचा तो ग्रामीण जमा हो गए। माहौल बिगडऩे की आशंका पर मुख्यालय से पुलिस जाप्ता बुलाना पड़ा। सीआई सहित, डिप्टी एवं प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे। इस बीच पुलिस और ग्रामीणों के बीच घंटों तक बहस हुई, लेकिन ग्रामीण मौताणे की मांग पर अड़े रहे। पुलिस अधिकारियों ने आरोपी से बात कराने की बात कही तो करीब दो बजे ग्रामीण शव मृतक के घर ले गए, लेकिन अंतिम संस्कार नहीं किया। ग्रामीण वार्ता के लिए थाने पहुंचे तो वहां भी शाम करीब साढ़े पांच बजे तक सकारात्मक जवाब नहीं मिला। इस पर आक्रोश जताते हुए ग्रामीणों ने मामले में फैसला नहीं होने तक शव का अंतिम संस्कार नहीं करने की बात कही। दंपती नामजद पुलिस ने चंदेरी निवासी मानसिंह पुत्र जवता लासुण की रिपोर्ट पर सारण निवासी कालूसिंह पुत्र फतिया तथा उसकी पत्नी रंगी के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया है। रिपोर्ट अनुसार मरने से पहले राजू ने अपनी पत्नी को घटनाक्रम के साथ ही बताया था कि कालू व उसकी पत्नी उसे तीन दिन से परेशान कर रहे हैं। थाना पुलिस की लापरवाही मामले में थाना पुलिस की लापरवाही सामने आई है। राजू की मौत के बाद पुलिस समय पर हॉस्पीटल नहीं पहुंची तो ग्रामीण शव को घर ले आए और आंगन में रख दिया। पुलिस गांव पहुंची, इसके बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए दोबारा महात्मा गांधी चिकित्सालय में लाए और पोस्टमार्टम कराया। फिर वापस शव गांव पहुंचाया गया। तब भी पुलिस ने मामले को गंभीरता से नहीं लिया तो शनिवार सुबह शव आरोपी के घर रखने का घटनाक्रम हो गया। इसकी जानकारी पर चार घंटे बाद पुलिस दोपहर 12 बजे सारेल पहुंची। यह था मामला चंदेरी निवासी राजू (32) पुत्र रामसिंह की टिम्बेड़ा में चाय की होटल है। उधारी पेटे 35 रुपए की उसने सारेल निवासी कालू पुत्र फातिया से मांग की। कालू ने उसे धमकी दी व जेब से रुपए निकालने का भी आरोप मढ़ दिया। इससे आहत राजू ने 17 अक्टूबर की रात विषाक्त पदार्थ का सेवन कर लिया। कुशलगढ़ से रात करीब एक बजे उसे महात्मा गांधी चिकित्सालय लाया गया, जहां उसने दम तोड़ दिया।