स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

rain in banswara : भूंगड़ा में 5, जगपुरा-घाटोल में 4-4 इंच बारिश, पानी की आवक बनी रहने से माही बांध के खुले हैं 16 गेट

deendayal sharma

Publish: Aug 16, 2019 10:27 AM | Updated: Aug 16, 2019 10:27 AM

Banswara

बांसवाड़ा जिले में इस बार स्वाधीनता दिवस लगातार बारिश के दौर के बीच मनाया गया। शहर समेत देहात के सभी इलाकों में कहीं तेज तो कहीं मध्यम बारिश का क्रम बना रहा। बीते दो दिन में सबसे ज्यादा भूंगड़ा क्षेत्र में पांच, जबकि जगपुरा और घाटोल में चार-चार इंच वर्षा दर्ज की गई। इससके अलावा केसरपुरा में पौने चार इंच बारिश हुई। इस बीच, माही डेम में पानी की आवक बनी रहने से शुक्रवार सुबह भी 16 गेट खुले रहे।

बांसवाड़ा. जिले में इस बार स्वाधीनता दिवस लगातार बारिश के दौर के बीच मनाया गया। शहर समेत देहात के सभी इलाकों में कहीं तेज तो कहीं मध्यम बारिश का क्रम बना रहा। बीते दो दिन में सबसे ज्यादा भूंगड़ा क्षेत्र में पांच, जबकि जगपुरा और घाटोल में चार-चार इंच वर्षा दर्ज की गई। इससके अलावा केसरपुरा में पौने चार इंच बारिश हुई। इस बीच, माही डेम में पानी की आवक बनी रहने से जलस्तर 281.25 मीटर बनाये रखते हुए शुक्रवार सुबह भी 16 गेट खुले रहे।

#Banswara_News : बहनों ने राखी से सजाई भाईयों की कलाई, भद्रा रहित होने से दिनभर मनाया रक्षाबंधन

जिला बाढ़ नियंत्रण कक्ष के अनुसार माही बांध में एराव और मध्यप्रदेश से 1855 क्यूसेक पानी की आवक लगातार हो रही है, जिसके चलते 16 गेट खोलकर निकासी की जा रही है। इधर, पावर हाउस नंबर एक में भी लगातार माही का पानी मिलने से बिजली उत्पादन जारी है। जिले में गुरुवार और शुक्रवार सुबह आठ बजे समाप्त 24 घंटों में बांसवाड़ा में क्रमश: 26 और 50, केसरपुरा में 42 और 45, दानपुर में 18 और 70, घाटोल में 36 और 62, भूंगड़ा में 44 और 85, जगपुरा में 46 और 55, गढ़ी में 15 और 514, लोहारिया में 37 और 43, अरथूना में 7 और 45 मिमी बारिश हुई। इसके अलावा इन्हीं दो दिनों में बागीदौरा में क्रमश: 7 और 50 मिमी, शेरगढ़ में 6 और 39, सल्लोपाट में 3 और 55, कुशलगढ़ में 12 और 32 व सज्जनगढ़ में 12 और 22 मिमी बारिश दर्ज की गई।

माही बांध के नियंत्रण कक्ष के मुताबिक 15 अगस्त को दोपहर 12 बजे तक 4-4 गेट खुले रखे गए, वहीं दोपहर बाद पानी की आवक बढऩे पर सभी 16 गेट ढाई-ढाई मीटर खोले गए। रात में इनफ्लो बढऩे पर पानी की निकासी का क्रम बना रहा, वहीं शुक्रवार सुबह छह गेट एक-एक मीटर, जबकि दस गेट 50-50 सेमी ही खुले रखे गए। अभी जलस्तर बनाए रखते हुए उतने ही पानी की निकासी की जा रही है, जितनी की माही बांध में आवक हो रही है।