स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बांसवाड़ा : नाबालिग दूल्हे की बारात रवानगी की थी तैयारी, खबर मिलने पर चेता प्रशासन, 8 महीने के फेर पर रोका ब्याह

deendayal sharma

Publish: Nov 22, 2019 20:17 PM | Updated: Nov 22, 2019 20:17 PM

Banswara

बांसवाड़ा जिले के गढ़ी थाना क्षेत्र के वाकावाड़ा गांव में शुक्रवार को नाबालिग की बारात रवानगी की तैयारी धरी रह गई, जब इसके संकेत पर प्रशासन चेता और मौके पर पुष्टि करवाकर बाल विवाह रूकवा दिया।

बांसवाड़ा/परतापुर. बांसवाड़ा जिले के गढ़ी थाना क्षेत्र के वाकावाड़ा गांव में शुक्रवार को नाबालिग की बारात रवानगी की तैयारी धरी रह गई, जब इसके संकेत पर प्रशासन चेता और मौके पर पुष्टि करवाकर बाल विवाह रूकवा दिया।

हुआ यों कि चौपासाग पंचायत अंतर्गत वाकावाड़ा के लडक़े के लग्न अरथूना क्षेत्र के कोटड़ा गांव की युवती से परिजनों ने तय किए। उनकी शादी शुक्रवार को ही होनी थी। इसके लिए सुबह बारात रवानगी की तैयारी चल रही थी, तभी किसी जागरूक ने प्रशासन के अधिकारियों को इसकी इत्तला दी। इस पर उपखण्ड अधिकारी रामचन्द्र खटीक एवं तहसीलदार गोपाललाल बंजारा के निर्देश पर गढ़ी थान से एएसआई बलवंतसिंह, महिला एवं बाल विकास विभाग से पर्यवेक्षक प्रेमलता द्विवेदी एवं पटवारी निखिल गरासिया मौके पर पहुंचे।

प्रथम दृष्ट्या दूल्हा नाबालिग प्रतीत होने पर टीम ने परिजनों से आयु से जुड़े दस्तावेज मांगे, तो एकबारगी रिश्तेदार बालिग बताते हुए बारात निकलने का समय होना कहकर टालने में लगे। बाद में समझाइश पर परिजनों ने दस्तावेज दिखाए, जिससे दूल्हे की उम्र 20 वर्ष 4 माह होना पाया गया। इस पर समझाइश कर टीम ने नाबालिग के माता-पिता को बाल विवाह नहीं करने के लिए पाबंद किया। इससे शादी रुक गई।

[MORE_ADVERTISE1]