स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

RS 26 लाख की कार 5 किमी का माइलेज दे तो क्या करेंगे?

Sanjay Kumar Kareer

Publish: Sep 16, 2019 19:10 PM | Updated: Sep 16, 2019 19:10 PM

Bangalore

कंपनी से शिकायत करने शो रूम जाने पर खरीदार से कहा गया कि कार हाइवे या खाली रोड पर ही 16 किमी का माइलेज देगी

बेंगलूरु. अगर आप 26 लाख रुपए की गाड़ी खरीदें और वह सिर्फ 5 किलोमीटर प्रति लीटर का माइलेज निकाले तो आप क्या करेंगे? बेंगलूरु के एक गुस्साए पिता ने ऐसे मामलों के शिकार लोगों को रास्ता दिखा दिया है। उन्होंने क्या किया, इसकी जानकारी आपको सिलसिलेवार तरीके से देंगे.. पढऩा जारी रखिए...

जेपीनगर निवासी एक बिजनेसमैन शशिकुमार ने अपनी बेटी को जन्मदिन पर कॉलेज जाने के लिए एक लिमिटेड एडिशन वाली महंगी कार खरीद कर देने का निर्णय किया। कार खरीदने से पहले उन्होंने काफी जानकारी एकत्रित की और पूरी रिसर्च करने के बाद एक कंपनी का विशेष मॉडल खरीदने का फैसला किया।

उन्होंने 30 नवंबर को यशवंतपुर में कार कंपनी के शो रूम पर जाकर एक कार पसंद की और उसकी टेस्ट ड्राइव ली। कंपनी के सेल्स प्रतिनिधियों ने उन्हें कार की तमाम खूबियां गिनाईं और यह भी बताया कि कार 16 किमी प्रति लीटर का माइलेज देगी।

शशिकुमार की बेटी का कॉलेज होसूर रोड पर होने के कारण उसकी घर से दूरी काफी ज्यादा थी। उन्होंने सोचा कि यह कार फायदे का सौदा साबित होगी और उन्होंने 26 लाख रुपए की कार खरीद ली।

जल्द ही उनके सामने परेशानी आ खड़ी हुई क्योंकि उनकी बेटी ने आए दिन पेट्रोल के लिए पैसे मांगने शुरू कर दिए। समस्या बढऩे के बाद उन्होंने कंपनी से संपर्क किया और जांच करने पर वजह सामने आई कि कार महज 5 किमी का ही mileage दे रही है।

शशिकुमार ने कंपनी से शिकायत की। शो रूम गए तो उन्हें कहा गया कि Car highway या खाली रोड पर ही 16 किमी का mileage देगी, जो कि उनके लिए एक धक्के के समान था। उन्होंने खुद को ठगा महसूस किया। इसके बाद शशिकुमार ने कंपनी के हैड ऑफिस को कई ईमेल भी भेजे लेकिन समस्या का कोई समाधान नहीं हुआ।

हार कर उन्होंने Court का दरवाजा खटखटाया और जज से गुहार लगाई कि या तो कंपनी उन्हें एक नई कार दे या फिर पूरे पैसे वापस करे। अदालत ने उनकी बात से इत्तेफाक रखते हुए Police को आदेश दिया कि कंपनी के खिलाफ एफआइआर दर्ज करे।

अब जेपीनगर पुलिस अपना सिर खुजा रही है कि क्या मामला दर्ज किया जाए क्योंकि यह पहला मौका है जब किसी ने कार का mileage कम मिलने की शिकायत करते हुए अदालत की शरण ली है।