स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पर्यटन मंत्री के बयान पर सदन में मचा हंगामा

Rajendra Shekhar Vyas

Publish: Jul 20, 2019 23:59 PM | Updated: Jul 20, 2019 23:59 PM

Bangalore

बोले: 28 करोड़ में बिके विश्वनाथ

बेंगलूरु. पर्यटन मंत्री सारा महेश ने आरोप लगाया है कि जद-एस के विधायक एएच विश्वनाथ ने 28 करोड़ रुपए का कर्ज चुकाने के लिए खुद को भाजपा के हाथों बेच दिया।
विश्वासमत पर बहस के दौरान उन्होंने कहा कि इस वर्ष जनवरी में भाजपा पर गठबंधन सरकार को अस्थिर करने का आरोप लगाने वाले विश्वनाथ आज उसके करीबी हैं। कुछ दिन पहले मैंने विश्वनाथ से मेरे (महेश) फार्म हाउस में कई विषयों पर विचार-विमर्श किया था। मैंने विश्वनाथ को पूछा कि क्या वे मंत्री बनना चाहते है? तब विश्वनाथ ने इनकार किया था। तभी विश्वनाथ ने चुनावी खर्चे के लिए 28 करोड़ रुपए का ऋण लेने की बात की थी।
उन्होंने कहा कि आज वही विश्वनाथ असंतुष्ट विधायकों के साथ हैं। विश्वनाथ सदन में आकर बताएं कि भाजपा ने उन्हें कितने करोड़ रुपए में खरीदा है। इस दौरान सदन में उपस्थित जद-एस के कई विधायकों ने महेश के बयान का समर्थन करते हुए 50 करोड़, 50 करोड़ के नारे लगाए।
विश्वनाथ ने आरोपों को नकारा
मुंबई में विश्वनाथ ने इन आरोपों पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि सदन में उनकी अनुपस्थिति में ऐसे बयान देना अनुचित है। उन्होंने कहा कि कहा कि वे इसके लिए महेश के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर करेंगे। हालांकि विश्वनाथ ने कहा कि चुनावी खर्चे के लिए ऋण की बात उन्होंने मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के साथ भी की है। इसमें कोई नयापन रही है। मौजूदा राजनीतिक हालातों में ऋण लिए बगैर चुनाव लडऩा संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि महेश के सभी आरोपों का वे बेंगलूरु लौटने के पश्चात विस्तृत जवाब देंगे।
माफी मांगें महेश : येड्डियूरप्पा
भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बीएस येड्डियूरप्पा ने सारा महेश के आरोपों को निंदनीय बताते हुए कहा कि अपने इस बेबुनियाद आरोप के लिए वे माफी मांगे। उन्होंने कहा कि सदन में बिना स्पीकर की अनुमति के ऐसे बेबुनियाद आरोप लगाना बेहद गंभीर मसला है। महेश को विश्वनाथ जैसे ईमानदार नेता पर आरोप लगाने के लिए माफी मांगना चाहिए।