स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

learner’s licence भी है तो बेखौफ वाहन चलाएं, जुर्माना नहीं कर सकती पुलिस

Sanjay Kumar Kareer

Publish: Sep 13, 2019 20:03 PM | Updated: Sep 13, 2019 20:03 PM

Bangalore

कर्नाटक हाई कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई के दौरान यह बात स्पष्ट की है कि learner’s licence भी एक वैध दस्तावेज है। सामान्य बीमा कंपनी की दावा पंचाट के फैसले के खिलाफ अपील की सुनवाई के दौरान उजागर हुई यह बात

 

बेंगलूरु. यातायात पुलिस के खौफ और भारी भरकम जुर्माने की खबरें रोज मीडिया में सुर्खियां बन रही हैं। इसके साथ बार-बार ऐस खबरें भी सामने आ रही हैं कि police नियमों की गलत व्याख्या कर रही है और बेवजह penalty भी किए जा रहे हैं।

ऐसा ही एक नियम learner’s licence के साथ दोपहिया वाहन चलाने का है। ऐसी शिकायतें सुनने में आई हैं कि पुलिस ने learner’s licence के साथ वाहन चलाते पाए जाने पर वाहन चालक को इसलिए penalty भरने को कहा क्योंकि उसके साथ कोई Instructor नहीं था।

पाठकों की जानकारी के लिए हम यह बताना चाहते हैं कि यदि कोई दोपहिया वाहन चालक learner’s licence के साथ वाहन चलाता है तो उसे डरने की कोई जरूरत नहीं है। कर्नाटक हाइ कोर्ट ने पिछले दिनों अपने एक फैसले में साफ कहा है कि मोटर वाहन अधिनियम 1989 के प्रावधानों के अनुसार learner’s licence भी एक वैध दस्तावेज हे और इसकी बिना पर जुर्माना नहीं किया जा सकता।

जस्टिस के नटराजन ने एक सरकारी सामान्य बीमा कंपनी द्वारा मोटर दुर्घटना दावा अभिकरण (MACT) के एक फैसले के खिलाफ की गई अपील की सुनवाई करते हुए यह बात कही। कंपनी ने एमएसीटी के 12.65 लाख रुपए का मुआवजा देने संबंधी एक फैसले के खिलाफ अपील की थी। अपील में अन्य कारणों के साथ यह तर्क भी दिया गया था कि वाहन चालक के पास सिर्फ learner’s licence था और उसके साथ कोई insructor भी नहीं था।

दोनों पक्षों की सुनवाई के बाद जस्टिस नटराजन ने कहा कि केंद्रीय मोटर वाहन अधिनियम १९८९ के नियम २४ (३) (वी) के अनुसार वाहन चलाना सीखने वाले चालक के साथ इंस्ट्रक्टर होना तभी आवश्यक है जब वह दोहरा कंट्रोल सक्षम वाहन चला रहा हो। सरल शब्दों में इसका मतलब यह है कि इंस्ट्रक्टर भी चालक के साथ वाहन को नियंत्रित कर सके या उसे रोक सके, ऐसे वाहन को चलाते समय ही इंस्ट्रक्टर की उपस्थिति अनिवार्य है। जाहिर तौर ऐसा वाहन चारपहिये का होता है, दो पहिये का नहीं। मतलब, यदि कार चलाना सीख रहे हैं तो इंस्ट्रक्टर होना जरूरी है लेकिन बाइक चलाते समय ऐसा होना जरूरी नहीं है। इसके अलावा जज ने सुप्रीम कोर्ट के कई फैसलों का हवाला देते हुए कहा कि learner’s licence एक वैध दस्तावेज है।