स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पथ सुधार के बाद चंद्रयान-2 सही रास्ते पर

Rajendra Shekhar Vyas

Publish: Aug 17, 2019 20:47 PM | Updated: Aug 17, 2019 20:47 PM

Bangalore

एक और पथ-सुधार की संभावना

बेंगलूरु. चांद की तरफ जाने वाली लंबी कक्षा में यात्रा कर रहे चंद्रयान-2 के पथ में एक सुधार किया गया है जिसके बाद वह सही रास्ते पर है। हालांकि, एक और पथ-सुधार की संभावना जताई जा रही थी लेकिन इसरो अधिकारियों के मुताबिक अब इसकी जरूरत नहीं पड़ेगी। पिछले 14 अगस्त तड़के 2.21 बजे भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के वैज्ञानिकों ने चंद्रयान-2 को चांद के वक्र प्रक्षेप पथ पर पहुंचाया था। इसरो के उच्च पदस्थ सूत्रों के मुताबिक चंद्रयान-2 जिस परवलयिक पथ (पैराबोलिक पाथ) पर अग्रसर है उस पर यान के भटकाव की संभावना काफी अधिक होती है। इसको ध्यान में रखते हुए पथ में सुधार की आवश्यकता पड़ती है। इसे ट्रेजेक्टरी कोर्स करेक्शन (टीसीएम) कहा जाता है। इसरो वैज्ञानिकों ने इसके लिए 15 अगस्त की शाम 5.40 बजे पहला कोर्स करेक्शन किया। इसके तहत यान में मौजूद तरल एपोगी मोटर लगभग 29 सेकेंड तक फायर किया गया। यान अब बिल्कुल सही रास्ते पर है और चांद का पीछा करता हुआ आगामी 20 अगस्त की सुबह 9 बजे के आसपास उसके आभामंडल में प्रवेश करेगा। तब फिर एक बार लैम फायर कर उसकी गति धीमी की जाएगी ताकि वह चांद के गुरुत्वाकर्षण में प्रवेश करते हुए उसकी कक्षा में समा जाए।