स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बेंगलूरु में बड़ी संख्या में जुटेंगे देश-विदेश के विप्र

Rajendra Shekhar Vyas

Publish: Aug 14, 2019 18:18 PM | Updated: Aug 14, 2019 18:18 PM

Bangalore

-विप्र फाउंडेशन की वार्षिक साधारण सभा 7 को
-दशाब्दी वर्ष समारोह का आगाज बेंगलूरु से 8 को
-संस्थापक संयोजक सुशील ओझा ने की घोषणा
-गोडवाड़़ भवन में कर्नाटक इकाई की बैठक

बेंगलूरु. ब्राह्मण समाज की अग्रणी संस्था विप्र फाउण्डेशन (विफा) पिछले एक दशक से 'उन्नत समाज-समर्थ राष्ट्र' की अवधारणा के साथ कार्यरत है। वर्ष 2019 को दशाब्दी वर्ष के रूप में मनाने के निर्णय के साथ ही वर्षभर के 10 कार्यक्रमों की शृंखला तैयार की गई है। विप्र फाउण्डेशन ने 'दिव्य दशाब्दी' वर्ष समारोह बेंगलूरू से प्रारंभ करने का निर्णय किया है। विफा की वार्षिक साधारण सभा 7 सितम्बर को और दिव्य दशाब्दी समारोह का आगाज 8 सितम्बर को बेंगलूरु से होगा।
विफा के संस्थापक संयोजक सुशील ओझा ने सोमवार को बेंगलूरु के गोडवाड़ भवन में बैठक में यह बात कही। विफा की कर्नाटक इकाई जोन-18 की ओर से आयोजित बैठक में बड़ी संख्या में ब्राह्मण समाज के लोग उपस्थित थे। ओझा ने बताया कि राष्ट्रीय परिषद की बैठक तथा दशाब्दी समारोह में देश-विदेश से समाजिक, औद्योगिक, राजनीतिक, कला-साहित्य जगत आदि अनेक क्षेत्र के लोग हिस्सा लेंगे। इस दौरान दक्षिण भारत में रचे-बसे मरुधरा के दस उद्यमियों का सम्मान, वीसीसीआई प्रिविलेज कॉर्ड का शुभारंभ, उच्च शिक्षार्थी युवाओं को आर्थिक सहयोग समारोह के आकर्षण होंगे। विफा की कर्नाटक इकाई के महामंत्री जगदीश आचार्य के अनुसार आतिथ्य के लिए तैयारियां की जा रही हैं। राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य हरिराम सारस्वत के अनुसार लगभग 125 लोगों के बेंगलूरु पहुंचने की सूचना है। दशाब्दी समारोह बेंगलूरु के पैलेस ग्राउण्ड स्थित किंग्स कोर्ट में होगा। बैठक में राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य राजेन्द्र जोशी, सरोजा व्यास, महेंद्र उपाध्याय ने भी विचार व्यक्त किए। भगवान परशुराम के छाया चित्र के समक्ष दीप प्रज्वलित कर शुरू हुए कार्यक्रम में विफा जोन 18 की ओर से सुशील ओझा का सम्मान किया गया। जोन 18 के कार्यकारी अध्यक्ष कमलेश डीडवानिया ने आभार व्यक्त किया। बैठक में राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य गोविंदसिंह राजपुरोहित, सुरेश पारीक, बाबूसिंह नोरवाल, राजेन्द्र तिवाड़ी आदि मौजूद रहे।