स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पूरे देश में यूपी का यह जिला इस मामले में सबसे अव्वल, नीति आयोग ने दिये तीन करोड़ रुपए

Hariom Dwivedi

Publish: Aug 07, 2019 17:25 PM | Updated: Aug 07, 2019 17:25 PM

Balrampur

- जिले के प्रभारी मंत्री सुरेश राणा ने जिले के अफसरों को दी बधाई, कहा मेहनत का नतीजा
- आकांक्षी 115 जिलों (Aspirational District) की लिस्ट में बलरामपुर देश में अव्वल
- नीति आयोग ने प्रथम स्थान हासिल करने पर पुरस्कार के तौर पर दिये तीन करोड़ रुपए

बलरामपुर. उत्तर प्रदेश के बलरामपुर जिले ने आकांक्षी यानी एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट 115 जिलों (Aspirational District) की सूची में पहला स्थान प्राप्त किया है। पिछली रैंकिंग में जिला 101वें स्थान पर था, लेकिन इस बार टॉप पर है। नीति आयोग (Niti Aayog) ने प्रथम स्थान हासिल करने वाले बलरामपुर जिले को पुरस्कार स्वरूप तीन करोड़ रुपए दिये हैं। कभी शिक्षा के क्षेत्र में सबसे निचले पायदान पर रहने वाले जिले को प्रथम स्थान मिलने पर बेसिक शिक्षा विभाग समेत लोगों में खुशी का माहौल है।

जिले के प्रभारी मंत्री सुरेश राणा ने कहा कि पहले बलरामपुर जिला शिक्षा की रैंकिंग में 101वें स्थान पर था, लेकिन अब पहले स्थान पर पहुंच गया है। इस उल्लेखनीय सुधार को देखते हुये नीति आयोग ने जिले को तीन करोड़ रुपये का अवार्ड दिया है, जो जिले की शिक्षा-व्यवस्था को और बेहतर बनाने के लिये किया जायेगा।

यह भी पढ़ें : सोजात प्रजाति के बकरे अनूठे, तीन की कीमत 22 लाख

प्रभारी मंत्री ने अफसरों को दिया श्रेय
मंत्री सुरेश राणा (Suresh Rana) ने इसका श्रेय जिले के अधिकारियों को दिया। उन्होंने कहा कि जिले के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले अधिकारियों ने टीमवर्क के साथ काम किया। यह उनकी मेहनत ही है कि पिछली बार फिसड़्डी रहने वाले जिले ने इस बार पहला स्थान प्राप्त किया है। इसके लिए सभी अधिकारी बधाई के पात्र हैं। सुरेश राणा ने कहा कि बीजेपी सरकार में ही शिक्षा के क्षेत्र में जिले में बेहतर काम हुआ है। यह केंद्र और प्रदेश की भाजपा सरकार की देन है कि नीति आयोग समय-समय पर मॉनिटरिंग करता रहा है। इसके लिए वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का अभिवादन करते हुए उन्हें बधाई देते हैं।

देखें वीडियो...

जनवरी 2018 में शुरू हुई थी यह योजना
जनवरी 2018 (Narendra Modi Sarkar) में वर्ष नेशनल इंस्टीट्यूशन फॉर ट्रांसफॉर्मिंग इंडिया यानी नीति आयोग (Niti Aayog) ने 'ट्रांसफॉर्मेशन ऑफ एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट्स' नाम से योजना की शुरुआत की थी। योजना का मकसद विकास की दौड़ में पीछे छूट गए देश के जिलों के प्रदर्शन में सुधार लाना था। इसके लिए रैंकिंग शुरू की गई। रैंकिंग में 115 जिलों को रखा गया था। आयोग के अनुसार यह जिले देश के अन्य जिलों की तुलना में अपेक्षाकृत कम विकसित हैं, जिन्हें‘एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट’ (Aspirational District) कहा जाता है।

यह भी पढ़ें : OMG! पांचवीं के छात्र के कैरेक्टर सर्टिफिकेट में गुरूजी ने यह क्या लिख दिया, आप भी नहीं करेंगे यकीन