स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ट्रेन में सफर करने के दौरान रहें सावधान, पहनावा देखकर लोगों को अपना शिकार बना रहा यह गिरोह

Akanksha Agrawal

Publish: Jul 17, 2019 15:24 PM | Updated: Jul 17, 2019 15:24 PM

Baloda Bazar

यदि आप ट्रेन में सफर कर रहे हैं और आपके पास महंगे मोबाइल व कीमती जेवर पहने है तो थोड़ा सावधान रहिए।

तिल्दा नेवरा. यदि आप ट्रेन में सफर कर रहे हैं और आपके पास महंगे मोबाइल व कीमती जेवर पहने है तो थोड़ा सावधान रहिए। क्योंकि एक ऐसा गिरोह सक्रिय (Thief gang in Train) हो गया है जो यात्रियों के पहनावे को देखकर अपना शिकार बनाते है। गौरतलब है कि रविवार को अमरकंटक एक्सप्रेस (Amarkantak Express) में सफर कर रहे राजिम के युवक प्रवेश राजपाल इस गिरोह का शिकार हुआ।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार राजपाल सोने की अंगूठियाँ, चेन, एप्पल का मोबाइल व कुछ नगदी रुपए रखा हुआ था। साथ ही उसके चार मित्र भी साथ मेंं सफर कर रहे थे। वहीं ये गिरोह इन युवकों पर काफी समय से नजर रखे हुए थे। जहां गिरोह के सदस्य मौके की तलाश में थे, तिल्दा नेवरा स्टेशन के पास जब राजपाल टॉयलेट गया, तब वहां कोई और यात्री नहीं था।

पीडि़त टॉयलेट से बाहर निकला तो गिरोह के सदस्य ने उसे नशीली दवा सुंघाकर बेहोश कर दिया और ट्रेन से नीचे उतार दिया। लुटेरों ने अंगूठी और 7000 रुपए नगद लूट लिए, साथ ही मोबाइल को भी लूटने का प्रयास किया, लेकिन टेक्नोलॉजी के जरिए पकड़े जाने के डर से वापस रख दिया।

माना जाता है कि यह घटना लगभग सुबह 6 बजे की थी। जब प्लेटफार्म में सुनसान था। जहां आरोपियों ने आराम से लूट की घटना को अंजाम दिया। वहीं इसके कुछ ही देर बाद वहां गोंडवाना एक्सप्रेस आई जिस पर गिरोह के सदस्यों ने राजपाल को बेहोशी की हालत में ही चढ़ा दिया और फरार हो गए।

छह दिनों से लापता था युवा व्यापारी
तिल्दा का युवा व्यापारी विजय बत्रा भी इस गिरोह का शिकार हो गया था। वह रकम वसूली करने भाटापारा गया था। जहां रकम वसूली के बाद लौट वक्त अचानक वह गायब हो गया। परिजन लगातार उसकी खोजबीन कर थे। लेकिन कुछ पता नहीं चला। दूसरे दिन भाटापारा थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखाई गई।

इसके बाद पुलिस ने खोजबीन शुरू की जहां मंगलवार को वह भाटापारा स्टेशन के पास अर्धबेहोशी की हालत में मिला। पुलिस ने उससे जब पूछताछ की तो उसने बताया कि वह वसूली कर ट्रेन से लौट रहा था, तभी किसी ने पीछे से नशीली दवा सुंघा दिया। इससे वह बेहोश हो गया। जब उसे कुछ होश आया, तो वह सक्ती स्टेशन में था। उसके बैग में रखे वसूली के 6 हजार रुपए और मोबाइल फोन गायब हो गए थे।

 

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर ..

LIVE अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News

एक ही क्लिक में देखें Patrika की सारी खबरें