स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

यहां अब आदिवासी छात्रावास का होगा खुद का भवन

Chandra Kishor Deshmukh

Publish: Sep 17, 2019 08:12 AM | Updated: Sep 16, 2019 23:58 PM

Balod

बालोद जिला आदिवासी विकास विभाग द्वारा जिले में 29 करोड़ रुपए की लागत से 18 बालक बालिका छात्रावास बनाया जाएगा। भवन बनने के बाद छात्रावास का संचालन किराए या फिर किसी सामुदायिक एवं शासकीय भवन में संचालित नहीं होगा। जिले के छात्रावासों के पास खुद का सर्व सुविधायुक्त भवन होगा।

बालोद @ patrika. जिला आदिवासी विकास विभाग द्वारा जिले में 29 करोड़ रुपए की लागत से 18 बालक-बालिका छात्रावास बनाया जाएगा। भवन बनने के बाद छात्रावास का संचालन किराए या फिर किसी सामुदायिक एवं शासकीय भवन में संचालित नहीं होगा। जिले के छात्रावासों के पास खुद का सर्व सुविधायुक्त भवन होगा।

किराए के दो भवन संचालित है
आदिवासी विकास विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक जिले में कुल 84 बालक-बालिका छात्रावास है। जिनमें से 2 किराए के भवन में संचालित किए जा रहे है और 18 सामुदायिक या फिर शासकीय स्कूलों जो पुराने व खाली है वहां संचालित हो रहे हैं।

29 करोड़ 46 लाख की स्वीकृति
विभागीय जानकारी के मुताबिक जिले में सिर्फ 18 छात्रावास भवन है जिनके पास स्वयं का भवन नहीं है। सन 2018 में शासन ने 29 करोड़ 46 लाख की स्वीकृति दी है। विभाग ने छात्रवास भवन निर्माण के लिए टेंडर निकाला गया है।

यहां बनेगा नया छात्रावास भवन
बालोद में दो जगह, अमलीडीह में दो, डौंडी, डौंडीलोहारा, पीपरछेड़ी, बरही, दल्ली राजहरा, साल्ले, दुधली, अरकार, सुरडोंगर, गुंडरदेही, कोचवाही सहित तीन अन्य जगहों पर भी छात्रावास बनाए जाएंगे।

छात्रावास में 42 सौ से ज्यादा बच्चे अध्ययनरत
जानकारी के मुताबिक जिले में कुल 84 बालक बालिका छात्रवास में करीब 4200 से ज्यादा बच्चे रहकर स्कूलों में पढ़ाई करते हैं। जिसमें से 18 आदिवासी छात्रवास भवन किराए या किसी शासकीय भवन पर संचालित है।