स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इस खेत की फसल हो गई चौपट, बचा तो सिर्फ कंकड़, रेत और पानी

Chandra Kishor Deshmukh

Publish: Sep 12, 2019 08:30 AM | Updated: Sep 12, 2019 00:12 AM

Balod

बीते दिनों बारिश के बाद सेमरिया नाले में आई बाढ़ का असर आसपास के गांवों के किसानों की खड़ी फसल पर पड़ा है। पानी से खड़ी फसल सड़ गई है।

बालोद @ patrika. बीते दिनों बारिश के बाद सेमरिया नाले में आई बाढ़ का असर आसपास के गांवों के किसानों की खड़ी फसल पर पड़ा है। पानी से खड़ी फसल सड़ गई है।

किसान ने की मुआवजे की मांग
ग्राम परसोदा के किसान रामलाल सिन्हा 60 वर्ष बताया कि सेमरिया नाला के समीप खेत होने के कारण फसल कई दिनों से पानी में डूबी रही। पानी कम होने पर पूरी फसल सड़ चुकी है। खेत में कंकड़, रेत और पानी ही नजर आ रहा है। पीडि़त किसानों ने शासन से मुआवजे की मांग की है। किसानों ने जिला प्रशासन से फसल का आकलन कर उचित मुआवजा की गुहार लगाई है।

जिले में अब तक 912 मिमी वर्षा दर्ज
बालोद ञ्च पत्रिका . जिले में चालू मानसून सत्र के दौरान एक जून से 11 सितंबर तक 912.8 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई। कलक्टर कार्यालय के भू-अभिलेख शाखा से प्राप्त जानकारी के अनुसार बालोद तहसील में अब तक 1148.5 मिलीमीटर, गुरुर तहसील में 1048.4 मिलीमीटर, गुंडरदेही तहसील में 705 मिलीमीटर, डौंडी तहसील में 933 मिलीमीटर और डौंडीलोहारा तहसील में 729.1 मिलीमीटर वर्षा दर्ज
की गई।