स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

फर्जी बिल छपवाकर पंचायत में 14वें वित्त की राशि में हेराफेरी

Chandra Kishor Deshmukh

Publish: Oct 20, 2019 08:25 AM | Updated: Oct 19, 2019 22:30 PM

Balod

गुंडरदेही तहसील मुख्यालय से 3 किलोमीटर दूर ग्राम कचांदुर पंचायत में ग्राम विकास की राशि का गबन का मामला सामने आया है। इस मामले की जांच की मांग को लेकर सप्ताहभर पूर्व ही ग्रामीणों ने जनपद पंचायत व एसडीएम को ज्ञापन सौंपा है।

बालोद @ patrika . गुंडरदेही तहसील मुख्यालय से 3 किलोमीटर दूर ग्राम कचांदुर पंचायत में ग्राम विकास की राशि का गबन का मामला सामने आया है। @ patrika .इस मामले की जांच की मांग को लेकर सप्ताहभर पूर्व ही ग्रामीणों ने जनपद पंचायत व एसडीएम को ज्ञापन सौंपा है। ग्रामीणों ने सरपंच और सचिव पर आरोप लगाया है कि दोनों ने मिलकर ग्राम पंचायत में चाय नाश्ता के साथ अन्य के लिए फर्जी बिल लगाकर राशि निकाल ली है। अभी तक इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

सूचना के अधिकार के तहत दी जानकारी में गड़बड़ी का खुलासा
गांव के युवक डिहार देशमुख ने सूचना के अधिकार अधिनियम 2005 के तहत ग्राम पंचायत कचांदूर की 14वें वित्त वर्ष 2017-18 आय-व्यय की जानकारी मांगी गई थी, जिसमें पाया गया कि सरपंच सचिव द्वारा दुकानों का फर्जी बिल प्रिंट करवा कर लगाया गया है। इस मामले का खुलासा तब हुआ जब डिहार देशमुख. निकेश चंद्राकर और अभिषेक यादव ने सभी बिलों की एक प्रति लेकर दुकानदारों के बिल से मिलान किया।

जिस होटल का बिल लगाया उसे संचालक ने बताया फर्जी
पंचायत द्वारा साहू होटल कचांदुर का 13,035 का नाश्ते का बिल लगाया है जिसे होटल संचालक माधव राम साहू ने देने से इनकार किया है। इसी तरह पानी पाउच, बोतल एवं बिस्किट का 8000 बिल, दर्शन इलेक्ट्रॉनिक फर्म के नाम पर क्रमश: 70,000 रुपए 48,300 रुपए 65,000 रुपए 90,000 रुपए 76,000 रुपए 20,000 रुपए का भी फर्जी बिल प्रस्तुत कर राशि आहरण किया गया है। इसी तरह विवेक ट्रेडर्स कचांदुर के नाम पर 25,000 रुपए, 24,000 तथा 76,350 का बिल प्रस्तुत किया है। उक्त बिल विवेक ट्रेडर्स द्वारा जारी नहीं किया गया। चावड़ा ट्रेडर्स गुंडरदेही के नाम पर 1,70,000 रुपए 20,000 रुपए 13,000 रुपए 51,600 रुपए तथा सौरभ सेनेटरी 'आलेख ट्रेडर्स, दिनेश इलेक्ट्रॉनिक्स, शिव प्रिंटर्स, शुभम कंप्यूटर्स गुंडरदेही तथा लीजा इलेक्ट्रानिक चिरपोटी के नाम पर लाखों रुपए का फर्जी बिल से आहरण कर सरपंच और सचिव द्वारा बंदरबांट किया गया।

दोगुने दर से मजदूरी भुगतान
14 वें वित्त आयोग में किए गए कार्यों का मजदूरी भुगतान का शासन द्वारा निर्धारित दर से दोगुणा अंकित किया गया है। मस्टररोल में कार्य योजना, कार्य नाम तथा वार्ड का विवरण भी नहीं भरा गया है। इसी तरह सिर्फ 14 वें वित्तीय वर्ष 2017-18 का एक वर्ष में ही लाखों की हेराफेरी की गईहै। 2 अक्टूबर 2019 को ग्राम सभा भी नहीं बुलाई गई।

ग्राम सभा को भी कर दिया स्थगित
गांव वालों के बार-बार कहने पर 4 अक्टूबर को ग्राम सभा बुलाईगई थी। सरपंच और सचिव द्वारा आय व्यय का जानकारी देने एवं फर्जी बिलों के बारे में पूछने पर जवाब देने से इनकार कर बीच में ही ग्राम सभा स्थगित कर दी। इसके बाद गांव में आक्रोश का है। ग्रामीणों ने सरपंच और सचिव की शिकायत एसडीएम, सीईओ, थाने में शिकायत की गई। मामले में अधिकारियों ने ग्रामीणों को एक सप्ताह के भीतर मामले की जांच कर कार्रवाई का आश्वासन दिया है। ग्रामीण खिलेश्वर, मन्नू राम, पुष्कर देशमुख सहित अन्य ने मामले की जांच दोषियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग की है।

अभी मामले की जांच नहीं हुई
गुंडरदेही जनपद सीईओ शैलेष भगत ने बताया कि कचांदुर ग्राम पंचायत में शासन द्वारा जारी विभिन्न कार्यों में गड़बड़ी की शिकायत ग्रामीणों ने की है। एसडीएम ने इस मामले की जांच की जवाबदारी तहसीलदार को दी है। अभी इस मामले की जांच नहीं हुई है।