स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

क्या आपको विश्वास होगा एक शहर का कॉलेज दूसरे शहर में हो रहा है संचालित

Chandra Kishor Deshmukh

Publish: Sep 15, 2019 08:01 AM | Updated: Sep 15, 2019 00:09 AM

Balod

बालोद जिले को पॉलीटेक्निक कॉलेज की सुविधा तो चार साल पहले मिल गई लेकिन इन चार सालों में कॉलेज का भवन नहीं बन पाया। भवन के अभाव में बालोद जिले का पॉलीटेक्निक कॉलेज धमतरी में संचालित हो रहा है।

बालोद @ patrika . जिले को पॉलीटेक्निक कॉलेज की सुविधा तो चार साल पहले मिल गई लेकिन इन चार सालों में कॉलेज का भवन नहीं बन पाया। भवन के अभाव में बालोद जिले का पॉलीटेक्निक कॉलेज धमतरी में संचालित हो रहा है।

पीडब्ल्यूडी भी जगह तय नहीं कर पाया
बता दें कि जिले में पॉलीटेक्निक कॉलेज की घोषणा के बाद भवन के लिए जगह की तलाश जारी थी। पीडब्ल्यूडी भी जगह तय नहीं कर पाया। जमीन का चयन ग्राम मालीघोरी में कर ली है। यहां 10 एकड़ में 9 करोड़ की लागत से कॉलेज भवन बनाया जाएगा। इसके लिए टेंडर भी लग चुका है। एक माह के भीतर टेंडर प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

पहले पाकुरभाट का चयन, पेड़ ज्यादा होने पर रद्द
जानकारी के मुताबिक पीडब्ल्यूडी ने पहले पीजी कॉलेज बालोद के पीछे जमीन पर भवन बनाने का विचार किया था। दो साल से मामला लटकने के बाद पाकुरभाट में जमीन का चयन किया गया था। जिस जमीन का चयन किया गया था वहां पर 150 पेड़ काटने पड़ते इसलिए वहां पर भवन बनाने रद्द कर दिया गया।

9 करोड़ की लागत से 56 कमरे वाले दो मंजिला भवन बनेेगा
अब ग्राम मालीघोरी में 9 करोड़ की लागत से पालीटेक्निक कॉलेज भवन बनाया जाएगा। पीडब्ल्यूडी के एसडीओ बीके गोटी ने बताया कि पाकुरभाट में पालीटेक्निक कॉलेज निर्माण के लिए जगह नहीं मिल पाई। इस वजह से अब पालीटेक्निक कॉलेज का निर्माण मालीघोरी में किया जाएगा।

इस साल धमतरी में और बढ़ जाएंगे बालोद के 90 छात्र
बता दें कि बालोद में पालीटेक्निक कॉलेज नहीं होने से इसका संचालन धमतरी में किया जा रहा है। धमतरी कॉलेज में तीनों ट्रेड में 30-30 सील ले रहे हंै। दो साल के इस ट्रेड में अभी 180 विद्यार्थी पढ़ाई कर रहे है। जबकि इस सत्र में 90 विद्यार्थी और बढ़ जाएंगे।