स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

धान की बंपर आवक से फूलने लगी सांसें, परिवहन जल्द शुरू नहीं होने पर बंद हो सकती है खरीदी, ट्रकों में नहीं लगा जीपीएस

Chandra Kishor Deshmukh

Publish: Dec 10, 2019 19:28 PM | Updated: Dec 10, 2019 19:28 PM

Balod

बालोद जिले के खरीदी केंद्रों में धान की बंपर आवक हो रही है। जिससे धान रखने की जगह भी नहीं बच रही है। जिले की 69 सेवा सहकारी समिति के 110 केंद्रों में धान खरीदी तो हो रही है, लेकिन परिवहन नहीं होने से धान जाम हो रहा है।

बालोद @ patrika . जिलेभर के खरीदी केंद्रों में धान की बंपर आवक हो रही है। जिससे धान रखने की जगह भी नहीं बच रही है। जिले की 69 सेवा सहकारी समिति के 110 केंद्रों में धान खरीदी तो हो रही है, लेकिन परिवहन नहीं होने से धान जाम हो रहा है। डीएमओ ने सोमवार से धान परिवहन कराने का दावा किया था, जो खोखला साबित हुआ। एक भी बोरा धान का नहीं उठा। दो-तीन दिनों में परिवहन होने की उम्मीद कम है।

जिले के 6 खरीदी केंद्रों में 10 हजार क्विंटल से अधिक धान की खरीदी
डीएमओ ने अभी तक धान परिवहन के लिए परिवहनकर्ताओं को तैयार नहीं किया है। जिन ट्रकों से धान का परिवहन करना है, उनमें अभी तक जीपीएस सिस्टम भी नहीं लगा पाए हैं। गाडिय़ों में जीपीएस सिस्टम लगाने का कार्य दो से तीन दिनों में हो जाने की जानकरी डीएमओ ने दी है। जिले के छह धान खरीदी केंद्र ऐसे हैं, जहां 10 हजार क्विंटल से अधिक धान की खरीदी हो चुकी है। अब यहां धान खरीदी करना मुश्किल हो रहा है।

जिले में अब तक 6,53,917 क्विंटल की खरीदी
जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के मुताबिक जिले की 69 सेवा सहकारी समिति के 110 केंद्रों में अब तक 17 हजार 612 किसानों ने कुल 6 लाख 53 हजार 917 क्विंटल धान बेचा है। लेकिन यह पहली बार हुआ है, जब खरीदी के सप्ताह बाद भी धान का परिवहन शुरू नहीं हो पाया है। ऐसे में आने वाले दिनों में केंद्रों में धान रखने व खरीदने जगह नहीं बचेगी।

63 खरीदी केंद्रों में 5 से 9 हजार क्विंटल खरीदी
धान का परिवहन नहीं होने का नतीजा यह है। 63 ऐसे धान खरीदी केंद्र है, जहां धान की खरीदी 5 हजार से 9 हजार क्विंटल तक हो गई है। छह ऐसे केंद्र हैं, जहां पर 10 हजार से 14 हजार क्विंटल की खरीदी हो चुकी है। अब दो-तीन दिनों में धान का परिवहन नहीं हुआ तो खरीदी बंद करने की स्थिति खड़ी हो सकती है।

80 ट्रकों से होना है परिवहन पर सिर्फ 30 में लगा जीपीएस
डीएमओ के मुताबिक जिले में कुल 71 मिलर्स हैं। जिसमें से अभी तक 60 मिलर्स ने पंजीयन करा लिया है। लेकिन 11 मिलर्स का पंजीयन बचा है। डीएमओ शशांक सिंह ने बताया कि अभी तक 80 ट्रकों से धान का परिवहन कराने चिन्हांकित किया गया है। सभी ट्रकों में शासन के निर्देश पर जीपीएस सिस्टम लगाने का कार्य जारी है। अभी तक की स्थिति में 30 ट्रकों में जीपीएस सिस्टम लगाया जा चुका है।

अब अधिकारी बोले- तीन दिन बाद होगा धान का परिवहन
चार दिन पहले ही केंद्रों से धान का परिवहन सोमवार से शुरू होने की बात कही गई थी लेकिन तैयारी पूरी नहीं होने के कारण परिवहन शुरू नहीं हो पाया। अब अधिकारी दो से तीन दिनों में धान का परिवहन करने की बात कह रहे हैं।

[MORE_ADVERTISE1]dhan-4.jpg
IMAGE CREDIT: balod patrika
[MORE_ADVERTISE2]

खरीदी केंद्र में दोबारा तौलने पर 200 से 300 ग्राम धान ज्यादा पाया गया
बालोद/डौंडीलोहारा @ patrika. धान खरीदी केंद्र 8 दिनों में 4 कांटों से तौलाई जारी है। खरीदे गए कुछ कट्टों को दोबारा तौलने पर जांच की गई तो 5 में से 3 कट्टों में 200 से 300 ग्राम धान अधिक पाया गया। यह तौल दो कांटों में किया गया। ऐसे में सवाल उठने लगा है कि खरीदी केंद्रों के जिम्मेदार धान की सही मात्रा में तौलाई नहीं कर रहे हैं।

धान की तौलाई में गड़बड़ी
एक दिसंबर से धान की खरीदी प्रारंभ हुई है, उसके बाद से लगातार एसडीएम व तहसीलदार रैंक के अधिकारी केंद्रों में दौरा करते व तौलकों को हिदायत देते नजर आ रहे हैं। बावजूद धान की तौलाई में गड़बड़ी उजागर हो रही है।

अब तक 5800 क्विंटल की खरीदी
धान खरीदी केंद्र में सोमवार तक 230 किसानों से लगभग 5800 क्विंटल धान की खरीदी की जा चुकी है। जिसमें 431 क्विंटल मोटा धान, 1298 क्विंटल महामाया धान, 3002 क्विंटल पतला धान, 191 क्विंटल एचएमटी धान एवं 872 क्विंटल सरना धान शामिल हैं।

धान की आवक बढ़ी
धान खरीदी केंद्र के प्रभारी ने जानकारी देते हुए बताया कि यहां प्रतिदिन 2000 कट्टे धान की खरीदी का निर्देश है। इस केंद्र की आवक क्षमता अभी 4200 से 4300 क्विंटल है। इस प्रकार किसानों को परेशानी हो रही है। वहीं धान का उठाव भी ज्यादा मात्रा में प्रारंभ नहीं हो सका है, जिससे केंद्र में धान की मात्रा बढऩे लगी है।

तौलकों के विरूद्ध कार्रवाई की जाएगी
डौंडीलोहारा एसडीएम आरएस ठाकुर का कहना है कि मामले में संज्ञान लिया जाएगा। यदि कट्टों में धान की अधिक मात्रा पाई गई तो प्रभारी के साथ तौलकों के विरुद्ध भी कार्रवाई की जाएगी।

[MORE_ADVERTISE3]